Crop Loan | जिले के 3,450 किसान ‘कर्ज मुक्ति’ से वंचित


जिले के 3,450 किसान ‘कर्ज मुक्ति’ से वंचित

  • 97,088 तकनीकी बाधाओं में से केवल 89,986 किसानों को हुआ लाभ 

यवतमाल. आधार कार्ड प्रमाणीकरण, गैर-लिंकेज, 25,000 रुपये से ऊपर के कुछ लाभार्थियों की मासिक आय जैसे विभिन्न तकनीकी कारणों से राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई महात्मा फुले शेतकारी ऋण राहत योजना के लाभों से जिले के 3,450 किसान अभी भी वंचित हैं. और इसे हल करने के लिए ईमानदार प्रयासों की कमी. ऐसे में उन्हें नए कर्ज का इंतजार करना होगा.

महात्मा फुले किसान ऋण राहत योजना 2019 में जिले में शुरू की गई थी. तब से अब तक 1 लाख 8 हजार 385 खातों को योजना पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका है. जिसमें से 93 हजार 436 ऋण खातों को विशेष नंबर मिला. इसे देखते हुए 3 हजार 652 खातों को तकनीकी कारणों से सरकार की ओर से कोई विशेष नंबर नहीं मिला है. ऐसे में ऐसे खाताधारकों को कर्जमुक्ति का लाभ मिलेगा या नहीं, इस पर संभ्रम है.

ऐसा इसलिए है क्योंकि सरकार ने अभी तक कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है कि यह रद्द कर दिया गया है या लंबित रखा गया है. हालांकि, यह स्पष्ट किया गया है कि सरकार के स्तर पर कुल 3,450 ऋण खाते लंबित हैं. जिसे देखकर ऐसे खाताधारकों को कर्ज से राहत मिलने की उम्मीद की जा सकती है.

महात्मा जोतिराव फुले किसान ऋण राहत योजना सत्ता में आने के बाद उन्होंने इस योजना की घोषणा करते हुए नियमित भुगतान करने वाले किसानों को 50,000 रुपये तक की प्रोत्साहन सब्सिडी देने का भी फैसला किया था. कर्जमाफी के लिए जिले से 1 लाख 8 हजार 385 आवेदन प्राप्त हुए. जिसमें से 97 हजार 88 किसान शासन के नियमानुसार पात्र हुए. उन्हें कुल 660 करोड़ 89 लाख रुपये बांटे गए.

किसानों को आधार प्रमाणित करने के निर्देश दिए गए थे. इस हिसाब से 93 हजार 436 किसानों ने आधार प्रमाणीकरण पूरा कर लिया है. जिसमें से 89 हजार 986 किसानों को लाभ मिला. 1,965 खातों के बारे में भी शिकायतें मिलीं. जिसमें से 1 हजार 898 शिकायतों का निराकरण किया गया.

तभी नए ऋण के लिए पात्र:

केवल वे किसान जिनके खातों में महात्मा ज्योतिबा फुले किसान ऋण राहत योजना के तहत क्रेडिट किया गया है, नए ऋण के लिए पात्र हैं. हालांकि जिनके मामले अभी लंबित हैं, वे नया कर्ज नहीं ले पाएंगे.

बैंकों ने खुद पोर्टल पर जानकारी अपलोड की

चाहे वह राष्ट्रीय बैंक हो, जिला बैंक हो या जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक हों, ऋण राहत के लिए पात्र किसानों की जानकारी पोर्टल पर अपलोड कर दी गई है. इस योजना के तहत कर्जमाफी की राशि सीधे उन किसानों के खाते में जमा की जाएगी जिनके खाते से राशि जमा की गई है. वे किसान नए ऋण के लिए पात्र हैं.

10 हजार 750 खाते अपात्र

जिले में महात्मा फुले ऋण राहत योजना के 3 हजार 450 ऋण खाते शासन स्तर पर लंबित हैं और 10 हजार 750 खाते अपात्र हो गए हैं. शासन स्तर पर सूचना भेज दी गई है. 

रमेश कटके, जिला उप पंजीयक, यवतमाल.

किसानों के ऋण खाते एक नजर में

जानकारी अपलोड किए गए ऋण खाते – 108385

लाभ मिले खाते – 89986

गैर-लाभकारी ऋण खाते – 3450

ऋण खातों की शिकायत – 4840

आधार प्रमाणित ऋण खाते – 93436

आधार प्रमाणन शेष ऋण खाते – 3652





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews