Death Case | सिकलसेल बाधीत युवक की मौत का मामला गर्माया, जिला सरकारी अस्पताल के डाक्टर समेत 6 पर FIR


Yavatmal Government Hospital

  • ईलाज में लापरवाही बरतने की शिकायत पर पुलिस कारवाई

यवतमाल. वसंतराव नाईक जिला सरकारी अस्पताल में सिकलसेल से बाधीत 16 वर्षीय युवक के ईलाज में लापरवाही बरतने के मामलें में पुलिस ने सरकारी अस्पताल के डाक्टर मिलाकर 7 आरोपीयों के खिलाफ परिजनों की शिकायत पर अपराध दर्ज किया है.इस कारवाई के बाद जिला सरकारी अस्पताल प्रशासन ने हडकम्प मच चुका है.

मृतक युवक का नाम संजय विलास दरोडे 16 निवासी शिवाजी नगर लोहारा है.वह सिकलसेल पिडीत मरीज था. इसी के चलते उसे उलटीयां होने से उसे जिला सरकारी अस्पताल में ईलाज के लिए 18 सितंबर 2021 को दाखिल किया गया था, लेकिन हालत गंभीर होकर दुसरे दिन 19 सितंबर की शाम 7.30 बजे जिला अस्पताल में ही संजय दरोडे इस सिकलसेल बाधित मरीज की मौत हो गयी.

जिला अस्पताल में संजय दरोडे का ईलाज कर रहे डाक्टरों ने ईलाज में टालमटौल और लापरवाही बरती जिससे उसकी मौत हो गयी थी.इस मामलें में मृतक युवक की मॉं रत्नमाला विलास दरोडे की शिकायत पर लोहारा पुलिस थाने में 20 अप्रैल जिला सरकारी अस्पताल के 7 डाक्टरों के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया है.

बता दें की इससे पुर्व सिकलसेल बाधीत इस युवक की सरकारी अस्पताल में मृत्यू के बाद बाद लोहारा पुलिस थाने में मर्ग क्रमांक 25/21 कलम 174 जाफौ के तहत मामला दाखिल किया था.लेकिन अब इस मामलें में मृतक युवक के मॉं की शिकायत और अस्पताल प्रशासन की जांच समिती की रिपोर्ट के बाद सरकारी अस्पताल के 6 लोगों पर मामला दर्ज होने से यह मामला गर्माता दिख रहा है.

सिकलसेल बाधीत इस युवक की मौत हो जाने और उसके परिजनों द्वारा जिला अस्पताल के डाक्टरों पर ईलाज में लापरवाही का आरोप लगने के बाद वसंतराव नाईक जिला सरकारी अस्पताल के अधिष्ठाता द्वारा घटना के कुछ दिनों बाद मामले की जांच के लिए 3 सदस्यीय समिती गठीत की गयी थी. इस मामलें में जांच पडताल के बाद समिती ने अपनी रिपोर्ट हाल ही में अधिष्ठाता को सौंपी.

अस्पताल के सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, जांच समिती में सिकलसेल बाधीत संजय दरोडे के ईलाज के दौरान लापरवाही बरती गयी थी, सिकलसेल वार्ड में किस डाक्टर पर क्या जिम्मेदारी थी, ईलाज में टालमटौल किस तरह की टालमटौल हुई, सिकलसेल बाधीत इस मरीज की क्या अवस्था थी, उसपर किस तरह का ईलाज किया गया.

इन सभी मुददों पर समिती ने जांच की, जो अधिष्ठाता को सौंपी गयी, हालांकी इस रिपोर्ट को सार्वजनिक नही किया गया. समिती की जांच रिपोर्ट आने के बाद अस्पताल प्रशासन और लोहारा पुलिस प्रशासन के बीच मामले को लेकर चर्चा हुई,इस गंभीर मामलें में सरकारी अस्पताल के 7 डाक्टरों के खिलाफ दर्ज शिकायत पर मामला दर्ज करने के लिए लोहारा पुलिस थाने के जांच अधिकारी और थानेदार दिपमाला भेंडे ने वरिष्ठों से मार्गदर्शन लेकर आगे की कारवाई की.

20 अप्रैल को इस मामलें में लोहारा पुलिस थाने में मृतक की मॉं रत्नमाला विलास दरोडे 40 निवासी शिवाजी नगर लोहारा द्वारा दर्ज शिकायत के बाद जिला अस्पताल में कार्यरत डा.दानिश शेख समेत अन्य 6 सभी निवासी यवतमाल के खिलाफ धारा 3049(अ),34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया गया है.

इस मामलें में डाक्टरों द्वारा संजय दरोडे पर ईलाज में टालमटौल कर लापरवाही बरतने की जानकारी मृतक की मॉं ने पुलिस थाने में दी. इस मामलें में पुलिस ने बयान दर्ज कर मामला दर्ज कर लिया, जिसके बाद लोहारा पुलिस थाने की थानेदार दिपमाला भेंडे के नेतृत्व में एपीआय राठोड जांच में जुटी हुई है.

यह वर्ष 2021 में घटीत मामला है, इस मामलें में हमने प्राथमिक जांच शुरु की थी,20 अप्रैल को मृतक युवक की मॉं की शिकायत पर जिला सरकारी अस्पताल में कार्यरत 6 लोगों के खिलाफ युवक के ईलाज के दौरान लापरवाही बरतने का मामला दर्ज कर लिया गया है.मामले में पुलिस कारवाई शुरु है.

पुलिस निरीक्षक दिपमाला भेंडे,

थानेदार, लोहारा पुलिस थाना, यवतमाल





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllwNews