ओमाइक्रोम: हवाई यात्रियों के लिए संशोधित दिशानिर्देश: ओमाइक्रोन का जोखिम; हवाई यात्रा के लिए नए राज्य दिशानिर्देश; विदेशी यात्रियों के लिए सख्त नियम – ओमाइक्रोन का खतरा राज्य सरकार ने उच्च जोखिम वाले हवाई यात्रियों के लिए नए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए


मुख्य विशेषताएं:

  • राज्य सरकार ने हवाई यात्रियों के लिए नए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए।
  • राज्य सरकार द्वारा जारी उच्च जोखिम वाले देशों के नाम।
  • साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि हाई रिस्क वाले यात्री कौन होंगे।

मुंबई: ओमिक्रॉन के मद्देनजर राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के आदेश के अनुसार विदेश से राज्य में आने वाले हवाई यात्रियों के लिए दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है। यह हवाई अड्डे पर कोरोना टीकाकरण और उच्च जोखिम वाले देशों के यात्रियों के लिए RTPCR परीक्षण से गुजरना अनिवार्य कर देगा। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशों को सख्ती से लागू किया जाएगा। (का खतरा ऑमिक्रॉन राज्य सरकार ने उच्च जोखिम वाले हवाई यात्रियों के लिए नए संशोधित दिशानिर्देश जारी किए)

उच्च जोखिम वाले देशों के राज्य के नाम

राज्य सरकार द्वारा जारी संशोधित दिशा-निर्देशों में उच्च जोखिम वाले देशों के नामों की घोषणा की गई है। इन देशों में दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना और जिम्बाब्वे शामिल हैं।

क्लिक करें और पढ़ें- ओमेक्रोन के खतरे को लेकर राज्य में सतर्कता; मेयर का कहना है, मुंबई शहर में…

‘ये’ यात्री होंगे हाई रिस्क वाले यात्री

उच्च जोखिम वाले यात्रियों के लिए राज्य सरकार ने नए दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। अंतर्राष्ट्रीय यात्री उच्च जोखिम वाले यात्री होते हैं जो उन देशों से आए होंगे जिन्हें उच्च जोखिम वाले देश घोषित किया गया है। साथ ही महाराष्ट्र आने से 15 दिन पहले हाई रिस्क वाले देशों की यात्रा करने वाले यात्री हाई रिस्क कैटेगरी में आएंगे।

ऐसे यात्रियों को अधिमानतः हवाई अड्डे पर उतार दिया जाएगा। इसके निरीक्षण और सत्यापन के लिए महाराष्ट्र राज्य के सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर अलग-अलग काउंटर स्थापित किए जाएंगे।

क्लिक करें और पढ़ें- करोना पाबंदियों को लेकर अजीत पवार का बड़ा बयान; RTPCR परीक्षण के संबंध में ‘हां’ निर्णय

इसके अलावा, ऐसे सभी उच्च जोखिम वाले यात्रियों को संबंधित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर तत्काल आरटीपीसीआर परीक्षण से गुजरना होगा। साथ ही इन यात्रियों को सात दिनों के लिए क्वारंटाइन करना होगा। साथ ही सातवें दिन एक बार फिर से आरटीपीसीआर टेस्ट लिया जाएगा।

अगर कोई यात्री इस आरटीपीसीआर टेस्ट में पॉजिटिव पाया जाता है तो उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

साथ ही सातवें दिन यात्री का दूसरा आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव आने पर यात्री को अगले 7 दिन घर पर ही रहना होगा।

क्लिक करें और पढ़ें- सुन्न होना! चार माह की लापता बच्ची की मां की हत्या उसकी मां ने की

घरेलू हवाई यात्रियों के लिए ‘यह’ नियम

राज्य सरकार ने घरेलू उड़ानों के लिए भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसमें घरेलू यात्रियों को अपने टीके की दोनों खुराक लेने की आवश्यकता है। इसी तरह यात्री के लिए उड़ान शुरू करने से 72 घंटे के भीतर आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट होना अनिवार्य है।

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews