गन्ने की कटाई पर बालासाहेब पाटिल: बंद हो जाएगा ‘उन’ किसानों का आर्थिक शोषण; ठाकरे सरकार का सख्त कदम- गन्ना कटाई के लिए किसानों से पैसे मांगने वालों पर हो कार्रवाई : बालासाहेब पाटिल


मुख्य विशेषताएं:

  • गन्ना कटाई के लिए किसानों से पैसे की मांग की जा रही थी।
  • मंत्री बालासाहेब पाटिल ने गंभीरता से लिया।
  • किसान की शिकायत पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुंबई: गन्ना उत्पादकों से गन्ने की कटाई के लिए पैसे की मांग सहकारिता एवं विपणन मंत्री ने आर्थिक रंगदारी में संलिप्त लोगों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश बालासाहेब पाटिल दे दिया है। ( गन्ना कटाई पर बालासाहेब पाटिल )

पढ़ना: ‘एफआरपी’ से तूफान; ‘इस’ चीनी कारखाने ने लिया बड़ा फैसला

बालासाहेब पाटिल ने कहा कि गन्ना की फसल अच्छी नहीं है, गन्ना खराब है, गन्ना गिर रहा है, गन्ना क्षेत्र मुश्किल है, कटाई संभव नहीं है, गन्ना कटाई के लिए किसानों से पैसे मांगकर. किसानों का आर्थिक शोषण यदि ऐसा होता है, तो सभी कारखानों को इस तरह के कदाचार को रोकने के लिए एक सार्वजनिक बयान देना चाहिए। फैक्ट्री को किसानों को शिकायत दर्ज करने के लिए मोबाइल फोन, व्हाट्सएप नंबर भी जारी करना चाहिए और किसानों को जानकारी का प्रचार करना चाहिए।

पढ़ना: महाराष्ट्र बंद: ‘हां’ नेता के महाविकास अघाड़ी पर लगे गंभीर आरोप

समस्त सहकारी चीनी मिलों के कार्यपालक निदेशक एवं निजी चीनी मिलों के प्रबंधक मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऐसी शिकायतों के निराकरण हेतु कृषि विभाग के अधिकारियों को शिकायत निवारण अधिकारी नियुक्त करें। शिकायत निवारण अधिकारी का नाम, संपर्क मोबाइल नंबर कार्य क्षेत्र में और बाहर की जानकारी गन्ने की कटाई जिन गांवों में यह हो रहा है, वहां इसे ग्राम पंचायत के नोटिस बोर्ड पर चस्पा किया जाए। मीडिया के माध्यम से भी इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए। चीनी मिल को लिखित में किसानों की ऐसी शिकायत कृषि अधिकारी उनके पास आने पर तुरंत कार्रवाई की जाए। किसान अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए चीनी आयुक्तालय के ई-मेल [email protected] का भी उपयोग करें। पाटिल ने यह भी उल्लेख किया कि शिकायत में वित्तीय जबरन वसूली में शामिल व्यक्ति का नाम और वाहन नंबर का उल्लेख किया जाना चाहिए। ऐसी शिकायत मिलने पर शिकायत की जांच कर समय पर समाधान किया जाना चाहिए। शिकायत में तथ्य पाए जाने पर संबंधित मुकादम, ठेकेदार के बिल से राशि की वसूली की जाए और संबंधित किसान को भुगतान किया जाए, इसकी जिम्मेदारी शिकायत निवारण अधिकारी, पाटिल को भी सौंपी जाए.

पढ़ना: अनिल देशमुख के घर पर 9 घंटे तक छापेमारी; गिरफ्तारी वारंट की बात चल रही थी, लेकिन…

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *