आर्यन केस में शाहरुख खान के सपोर्ट में आए अनीस बज्मी, बोले- दोस्त हैं, सच बाद में पता चल ही जाएगा



बॉलिवुड में 42 साल बिताने के बावजूद फिल्मकार की सक्रियता में कोई कमी नहीं आई है। हाल ही में उन्होंने ‘भूल भुलैया 2’ की शूटिंग पूरी है है। हाल ही में उनका जन्मदिन था। चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में अपना करियर शुरू करने वाले अनीस अपने 42 साल के फिल्मी सफर पर संघर्ष, फिल्म, सालगिरह, जन्मदिन और जैसे मुद्दों पर दिल खोलकर बात करते हैं

आपकी ‘भूल भुलैया 2’ पूरी हो गई है और आपने रिलीज डेट की घोषणा भी कर दी है?मैं जो भी पिक्चर बनाता हूं, उसे पूरी ईमानदारी से बनाता हूं। ऐसा लग रहा है कि फिल्म अच्छी बनी है। लेकिन ये तो मार्च में रिलीज होने वाले शुक्रवार को असल पता चलता है कि उसका ग्रामर सही था या नहीं। भूल भुलैया 2 में थोड़ा डर भी लग रहा है, हंसी भी आ रही है। तब्बू, कियारा आडवाणी, कार्तिक आर्यन ने अच्छा काम भी किया है। उम्मीद करता हूं कि सबको फिल्म पसंद आए।

कार्तिक आर्यन को लेकर काफी विवादास्पद खबरें थीं? उनके साथ आपका अनुभव कैसा रहा?कार्तिक के साथ काम करने का अनुभव बहुत अच्छा रहा। वह बहुत अच्छा लड़का है। जब कार्तिक की पहली फिल्म ‘प्यार का पंचनामा’ आई थी तब मुझे उसका काम बहुत पसंद आया था। मुझे जब भी किसी का काम पसंद आता है, तब मैं यह नहीं देखता कि यह नया है या पुराना है, मैं इसे जानता हूं या नहीं। मैं सीधा फोन उठाकर उसे मुबारकबाद देता हूं। यह रोल मुझे लगा बहुत अच्छा है, तो मैंने कार्तिक को बुलाया उसने सुना और उसे कहानी काफी पसंद आई। कार्तिक के साथ बहुत ही फोकस और हंसमुख लड़का है। वह अपने काम के प्रति बहुत ईमानदार है और मेहनती है। ऐक्टर भी बहुत अच्छा है और उसका फ्यूचर बहुत सुनहरा है।

फिल्म में कियारा और तब्बू जैसी अभिनेत्रियां भी हैं?मैंने कियारा की जितनी भी फिल्में देखी है, उसका काम मुझे बहुत पसंद आया है। बहुत ही सुलझी हुई ऐक्ट्रेस है। उससे एक टेक करवा लो या दस उसे पता है, उसको क्या करना है। वह एक अच्छी अभिनेत्री के साथ-साथ बेहतर इंसान भी है जहां तक बात तब्बू की है, तो हम दोनों को बहुत सालों से एक-दूसरे के साथ काम करना था। वह जिस स्तर की एक्ट्रेस हैं, वह तो सबको पता है। तब्बू ने बहुत अच्छा काम किया है।

हाल ही में एक नवंबर को आप 58 साल के पूरे हुए हैं। इस सालगिरह पर क्या खास है आपके लिए?मैं ईमानदारी से कहूं, तो मैं बर्थडे की कोई ऐसी खास प्लानिंग नहीं करता हूं बल्कि रोज ही पॉजिटिव रहता हूं।पार्टी नहीं करता हूं। बस घर पर बच्चे जिद करते हैं, तो केक कट करता हूं और रात को मिलकर खाना खाते हैं। जब शूटिंग कर रहा होता हूं, तो सालगिरह सेट पर मनती है। मेरी सारी फिल्मों में कई मर्तबा हुआ है बल्कि मैं बताता नहीं हूं, मगर क्रू को पता चला जाता है कि मेरा बर्थडे है। फिर वे मुझे सरप्राइज देते हैं। वेलकम, सिंह इज किंग, मुबारकां के सेट्स पर सरप्राइज बर्थडे पार्टी मिली है। बचपन में भी मैं सालगिरह नहीं मनाता था, लेकिन मेरी मम्मी कुछ मीठा बनाती थी। सच कहूं तो वह खुशी जो होती थी वह इन बड़ी बड़ी पार्टी में नहीं होती। लेकिन मेरी मम्मी बहुत खुश रहती थीं। मैं उनके साथ बैठता था और वह मेरे लिए शीरा (सूजी का हलवा) या खीर बनाती थीं और मैं मम्मी और पापा साथ मिलकर उसका आनंद लेते थे।

आपको इंडस्ट्री में तकरीबन 40-42 साल हो गए हैं, आज भी आपकी संघर्ष की कहानियों से लोग प्रेरणा लेते हैं?संघर्ष तो अनगिनत रहे हैं। मैं स्ट्रगल करने के दौरान 15 साल तो भूखा रहा होऊंगा। इतने सालों में मुझे याद नहीं कि मैंने कभी दोपहर का खाना खाया हो। सिर्फ सुबह नाश्ता करके निकलता था और सीधा रात को 2 बजे आता था, तो मां मुझे डांटकर खाना खिलाती थी। फिर जब थोड़े पैसे आने शुरू हुए तो दोपहर में एक वड़ा पाव खाकर गुजारा करता था। मुझे याद है मैं ट्रैन में सफर करने से ज्यादा पैदल चलकर काम की तलाश करता था। मैं इतना चला हूं कि आज जो मैं इतना एक्टिव होकर काम करता हूं, उसमें मेरे स्ट्रगल दिनों की मेहनत बहुत काम आई है।

आपने चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर भी काम किया है?मैं सबसे पहले जूनियर आर्टिस्ट था। उसके बाद गुलजार भाई की फिल्म किताब में मैंने चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम किया था। साथ ही फिल्म भयानक में भी मैं बाल कलाकार था। मैंने मनमोहन देसाई की नसीब में शत्रुघ्न सिन्हा के बचपन का किरदार भी अदा किया था। मुझे एक्टिंग का शौक नहीं था, मैंने मजबूरी में घर चलाने के लिए बचपन में अभिनय किया था। मैंने साउंड और एडिटिंग डिपार्टमेंट में भी काम किया है। जब मुझे राज कपूर के साथ फिल्म प्रेम रोग में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर काम करने का मौका मिला, तो मुझे एहसास हुआ कि मैं डायरेक्शन बहुत इंजॉय करता हूं।

चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर आपको नसीब के लिए कितने पैसे मिले थे?जब मैं शुरुआत में काम करता था, तब मुझे 13 रुपये मिलते थे। प्रेम रोग में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर 300 रुपए मिलती थी और मैं मलाड में मालवणी में रहा करता था। तब आरके स्टूडियो आने और जाने का बस का किराया 300 रुपये लग जाया करता था, तो पगार मेरी पूरी बस के किराए में ही चली जाती थी। मगर राज साहब के साथ काम करने में कोई परेशानी नहीं होती थी। उन्हें लोगों के हालातों के बारे में मालूम होता था। वह सब कुछ देते रहते थे। वे बहुत दिलवाले थे।

एक अरसे से बॉलिवुड में सुशांत सिंह राजपूत से लेकर आर्यन खान ड्रग केस तक जो नेगेटिविटी फैली है, उस पर क्या कहना चाहेंगे?ताज्जुब तो नहीं होता है। फिल्म लाइन हमेशा सॉफ्ट टारगेट रहा है। हमारी फिल्म इंडस्ट्री के लोग अपना काम करते रहते हैं, वे इन चीजों पर रिएक्ट भी नहीं करते हैं। लेकिन जब भी किसी तरह का सामाजिक कार्य आता है, तो जो लोग सबसे पहले सामने आते हैं, वह हमारे फिल्म लाइन के लोग ही होते हैं। चाहे वह पुलिस का कार्यक्रम हो या कोई आपदा रिलीफ फंड हो। सब बहुत सारा पैसा जमा करके नेक कामों के लिए इकठ्ठा करते हैं। मुझे लगता है, लोगों को बॉलिवुड के प्रति संवेदनशील होना चाहिए। मुझे आज इस लाइन में 42 साल हो गए हैं, अच्छे-बुरे लोग हर जगह होते हैं, मगर यह प्रॉजेक्ट करना गलत है कि इंडस्ट्री में 100 में 110 खराब लोग हैं। यह कोरोना काल में इंडस्ट्री के कई लोग हैं, जिन्होंने कई जरूरतमंदों की सहायता की है। फिल्म लाइन को जो बदनाम किया जाता है उसे सुनकर दुख होता है। मगर दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम काम में ही व्यस्त रहते हैं और सॉफ्ट टारगेट हैं। जिनको जो कहना है वह कहते हैं। मैंने जितना अनुभव किया है कि इस लाइन से कहीं ज्यादा कई लाइनें हैं, जहां बहुत बदमाशियां होती हैं।

आर्यन खान के मामले में क्या कहना चाहेंगे? तो दोस्त हैं। वह इस लाइन के जबरदस्त सुपरस्टार हैं, क्योंकि हमारा उनसे पर्सनल रिश्ता है, तो जाहिर है दुख तो होता ही है। यह कानूनी मामला है, तो धीरे-धीरे पता चलेगा कि इसमें क्या सच्चाई है? क्या गलत या सही है। हमारी। हमारी सहानुभूति शाहरुख और आर्यन खान के साथ हमेशा से रही और रहेगी। हमें पता है कि शाहरुख कितने अच्छे इंसान हैं और कितना अच्छा काम करते हैं। अब मुझे डिटेल में सब पता तो नहीं है, तो मैं इस पर कुछ रिएक्ट नहीं करूंगा। मगर इसके बावजूद हमारी पूरी संवेदना उनके साथ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews