aryan khan ncb custody till 7th october: Aryan Arbaaz And Munmun Ncb Custody: आर्यन खान सहित तीन लोगों को 7 अक्टूबर तक एनसीबी की हिरासत में भेज दिया गया है।


मुंबई में क्रूज पर आयोजित रेव पार्टी में पकड़े गए बॉलिवुड सुपरस्टार शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) सहित तीन लोगों को सोमवार को कोर्ट में जमानत नहीं मिल पाई है। आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को 7 अक्टूबर तक एनसीबी (NCB) की हिरासत में भेजा दिया गया है। 7 अक्टूबर को तीनों की फिर से पेशी होगी। एनसीबी को कोर्ट से अभी आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा की ही रिमांड मिली है। एनसीबी की कोश‍िश है कि बाकी 5 गिरफ्तार आरोपियों की भी रिमांड ले सके। आर्यन खान को एनसीबी की हिरासत में भेजे जाने से पहले उनके वकील सतीश मानेशिंदे ने काफी देर तक अपना पक्ष रखा। वहीं, अरबाज मर्चेंट की तरफ से वकील तारिक सईद और मुनमुन धमेचा की तरफ से वकील अली कासिफ खान ने पक्ष रखा।

आर्यन खान सहित तीन लोगों को लेकर किला कोर्ट में शाम को करीब 4 बजे सुनवाई शुरू हुई थी। एनसीबी की ओर से कोर्ट में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा एक गैंग की तरह हैं। इनके फोन से ऐसी तस्‍वीरें और चैट्स मिली हैं, जो इशारा करती हैं कि ड्रग्‍स का यह रैकेट इंटरनैशनल मार्केट से जुड़ा हुआ है। हमें इनके कॉल डिटेल्‍स निकालने होंगे। पूछताछ और जांच का दायरा बढ़ाना होगा। इसलिए हमें रिमांड दी जाए, ताकि सभी से क्रॉस एग्‍जामि‍नेशन भी सके। और भी 5 आरोपी गिरफ्तार हुए हैं, उनसे भी पूछताछ की जानी है।

आर्यन खान ड्रग्‍स केस: क्‍या ‘मन्‍नत’ की भी जांच करेगी NCB?

सतीश मानश‍िंदे ने कहा कि आर्यन ने ऑर्गेनाइजर्स से कोई बात नहीं की। उनको इन्‍वाइट किया गया था। आर्यन के पास से ड्रग्‍स नहीं मिली। इससे यह कैसे साबित होता है कि आर्यन इन सब में शामिल हैं। मानेशिंदे ने आगे कहा कि वॉट्सऐप चैट, डाउनलोड, तस्वीरें, कुछ भी यह साबित नहीं करते कि आर्यन का इन ड्रग्‍स से कोई लेना-देना है। यदि कोई ऐसी चैट है जिनमें ड्रग्‍स को लेकर बात हो रही है, तो यह सामान्‍य भी हो सकता है। इसका यह मतलब नहीं है क‍ि आर्यन नशीली दवाओं की तस्‍करी करते हैं या उसमें कहीं भी भागीदार हैं।

सतीश मानश‍िंदे ने कोर्ट में रिया चक्रवर्ती केस का जिक्र किया। आर्यन पर जो धाराएं लगाई गई हैं, 8 (सी), 20 (बी), 27, आदि जो भी हैं, इनमें से कोई भी धारा 37 एनडीपीएस ऐक्‍टर के तहत जमानत नहीं देने की बात नहीं करती है। रिया चक्रवर्ती के मामले के तथ्य हैं कि 27ए लागू किया गया था, जिसमें धारा 37 के तहत जमानत प्रतिबंध है। फिर भी जमानत मिली थी, क्‍योंकि रिमांड में रखने का कोई आधार नहीं था। इस मामले में भी जो जब्‍ती हुई है वह आर्यन से संबंध‍ित नहीं हैं, ऐसे में आगे की रिमांड का कोई आधार नहीं बनता है।

NCB की पूछताछ में फफक कर रो पड़े आर्यन!

सतीश मानश‍िंदे ने कहा कि न तो आर्यन के पास से, न उनके बैग से कोई ड्रग्‍स मिला है। कोर्ट खुद देख सकता है कि उन वॉट्सऐप चैट में क्‍या है। एनसीबी जिस इंटरनैशनल ड्रग रैकेट या चैट की बात कर रही है, उससे आर्यन को लिंक करना सही नहीं है। वह तो पार्टी में मेहमान बनकर गए थे। आर्यन खान ने किसी को कोई पैसा नहीं दिया। इस पर मजिस्ट्रेट ने कहा कि सतीश मानश‍िंदे के तर्कों को सुनकर ऐसा लग रहा है कि वह पुलिस हिरासत की मांग कर रहे हैं और जमानत के लिए भी बहस कर रहे हैं।

सतीश मानेशिंदे ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पेश किया है जिसमें कहा गया है कि किसी आरोपी को दोषी ठहराने के लिए वाट्सऐप चैट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि गैर-जमानती मामलों में भी सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी है। सतीश मानेशिंदे ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पेश किया है जिसमें कहा गया है कि किसी आरोपी को दोषी ठहराने के लिए वाट्सऐप चैट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

क्‍या Aryan Khan को सजा होगी?

सतीश मानेशिंदे ने कहा कि एनसीबी ने कोर्ट के सामने जो भी बातें रखी हैं, जो आरोप लगाए हैं, वो भले ही गैर जमानती हों, लेकिन कोर्ट को यह अध‍िकार है कि वह जमानत दे दे। सतीश मानशिंदे ने कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि आर्यन खान ने ड्रग्स खरीदा या बेचा है। ऐसे में ‘एस 37’ लागू नहीं होता है। आर्यन अभी 24 साल के लड़के हैं। इस तरह के मामले में वह पहली बार आरोपी बने हैं, ऐसे में उन पर वो दलील नहीं थोपे जा सकते, जो दूसरे आरोपियों को लेकर दिए जाते हैं।

सतीश मानश‍िंदे ने कहा कि 48 घंटे से ज्यादा का अभी समय हो गया है। आर्यन के ख‍िलाफ कुछ नहीं मिला है। ऐसे में रिमांड की किसी भी अपील को खारिज किया जाना चाहिए। एनसीबी को जो भी पूछताछ करनी थी, वह कर चुके हैं। आर्यन ने सहयोग भी किया है। आर्यन ने पूछताछ में अच्‍छा आचरण दिखाया है। उन्‍होंने अपने फोन से भी कुछ डिलीट नहीं किया।

‘SRK के बेटे आर्यन ने पार्टी में ली थी चरस’

कोर्ट में अरबाज मर्चेंट के वकील तारिक सईद ने कहा कि वसूली एक पंचनामा के तहत की जाती है। आर्यन खान से कोई वसूली नहीं हुई है। अरबाज के पास 5 ग्राम ड्रग्‍स होने का दावा किया गया है, लेकिन एमडीएमए और कोकीन जैसी अन्य बरामदगी उनसे संबंधित नहीं हैं। तारिक सईद ने कहा कि हमने जांच में हर तरह से सहयोग किया है, ऐसे में आगे की रिमांड की अर्जी को खारिज किया जाना चाहिए। वहीं, मुनमुन धमेचा के वकील अली कासिफ खान ने न्‍यायिक हिरासत की मांग की है। अली कासिफ खान ने कहा कि मुनमुन का न तो आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट से और न ही इस केस से कोई लेना देना है।

एडिशनल सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) ने कहा कि चैट मेसेज में जो है, वह भले ही रिमांड की सुनवाई के लिए प्रासंगिक न हो, लेकिन मैं फिर से कोर्ट से उन्‍हें पढ़ने का अनुरोध करूंगा। इसमें कई अज्ञात लोगों से भी चैट हैं। यह चैट थोक खरीद के बारे में है। इसकी जांच होनी चाहिए। मजिस्‍ट्रेट ने एएसजी से कहा कि आप क्‍या साबित करना चाहते हैं? एएसजी ने कहा कि इससे यही स्‍पष्‍ट होता है कि कुछ तो कनेक्‍शन जरूर है। ये लोग लगातार उस अज्ञात शख्‍स के संपर्क में थे। एएसजी ने कहा कि ड्रग्स सप्‍लायर से आप लगातार संपर्क में रहते हैं। ये ऐसी परिस्थितियां हैं, जिसकी जांच की जानी चाहिए। हम रिमांड की मांग करते हैं ताकि आगे की जांच हो सके। एएसजी ने कहा कि हमारी जांच अभी शुरू हुई है। प्रारंभ‍िक है। इसलिए रिमांड दी जाए और जमानत की अर्जी को खारिज किया जाए।

क्रूज पार्टी में आर्यन पर NCB को इसलिए हुआ शक

कोर्ट के जब्ती करने के सवाल पर एनसीबी अधिकारी ने कहा कि अरबाज मर्चेंट से 6 ग्राम चरस (थोड़ी मात्रा) और मुनमुन धमेचा से 5 ग्राम चरस (थोड़ी मात्रा) बरामद हुआ। केवल ये दो वसूली हुईं। विक्रांत के पास 5 ग्राम एमडीएमए था। एनसीबी के अधिकारी ने कहा कि विक्रांत के पास 10 ग्राम कोकीन भी था। यह मीडियम लेवल अमाउंट है। इश्मीत सिंह के पास से 14 एमडीएमए की गोलियां मिलीं। गोमित एमडीएमए एक्स्टसी की 4 गोलियां और 3 ग्राम कोकीन भी बरामद की गई। नूपुर के पास एमडीएमए की 4 गोलियां थीं। जायसवाल के पास से कोई रिकवरी नहीं हुई है, लेकिन उन्होंने नुपुर को गोलियां दीं।

एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने सवाल किया कि जहाज पर 1300 लोग सवार थे? इस पर सतीश मानेशिंदे ने कहा कि ऐसा नहीं है कि आर्यन खान जहाज में ड्रग्स बेच रहा था, वह चाहे तो जहाज खरीद सकता है। वहीं, एनसीबी ने आरोप लगाया कि आर्यन खान ड्रग सिंडिकेट का हिस्‍सा हैं। इस पर सतीश मानश‍िंदे ने कहा कि आर्यन ने विदेश से पढ़ाई की है। वह अभी अभी इंडिया आए हैं, वह भला कैसे किसी सिंडिकेट का हिस्‍सा हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *