aryan khan punishment being celebrity: Aryan Khan Drugs Case: आर्यन खान को ड्रग्स पार्टी करते हुए एनसीबी ने पकड़ा था।


मुंबई सेशन कोर्ट में आर्यन खान (Aryan khan) को गुरुवार को राहत नहीं मिली है और उन्हें अभी जेल में रहना होगा। दरअसल, कोर्ट ने आर्यन खान की जमानत याचिका पर 20 अक्टूबर तक के लिए आदेश सुरक्षित कर लिया है और इस दिन कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा। जिसके चलते अब आर्यन खान को 20 अक्टूबर तक तक जमानत नहीं मिल पाएगी। कोर्ट में हुई सुनवाई में आर्यन खान की ओर वकील अमित देसाई (Amit Desai) ने दलील दीं तो एनसीबी का एडिशनल सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह (Anil Singh) ने पक्ष रखा।

मुंबई सेशन कोर्ट में तीन घंटे की सुनवाई के दौरान अमित देसाई और अनिल सिंह की तरफ से काफी तर्क और दलीलें पेश की गईं। आर्यन खान के वकील अमित देसाई ने रिया चक्रवर्ती के फैसलों में एएसजी की टिप्पणी पढ़ी। एएसजी ने इसमें तर्क दिया कि सेलिब्रिटी और रोल मॉडल के साथ कठोर व्यवहार किया जाना चाहिए, क्योंकि उनका समाज पर प्रभाव है। लेकिन हाई कोर्ट क्या कहता है? मैं सहमत नहीं हूं। अमित देसाई ने कहा कि वह कोर्ट के सामने खड़े होकर कहना चाहते हैं कि किसी भी सेलिब्रिटी या रोल मॉडल को कोर्ट के समक्ष विशेष दर्जा प्राप्त नहीं है और इसलिए कानून के समक्ष उनके साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए। अब कानून के आधार पर कुछ सबमिशन जो उन्हें लगता है कि तथ्य हैं वो सौंपना चाहते हैं। अमित देसाई ने कहा कि आर्यन खान को सेलिब्रिटी होने के कारण सजा मिले ये सही नहीं है।

आर्यन खान को फिर नहीं मिली बेल, जानिए कोर्ट में क्‍या-क्‍या हुआ

अमित देसाई ने कहा कि देश में मादक पदार्थों के मुद्दे से लड़ने के लिए सरकार ने नीति दस्तावेज जारी किया। युवाओं के लिए यह निश्‍च‍ित रूप से बहुत जरूरी है। लेकिन न्याय के सिद्धांतों पर विचार किया जाना चाहिए। प्रमुख ड्रग पेडलर्स से लेकर छोटे समय के पेडलर्स और फिर उपभोक्ताओं तक जाती है यह सीरीज। जब स्कूल और कॉलेज जाने वाले बच्चों को नशीली दवाओं की तस्करी की बात आती है, तो सरकार की नीति उन्हें संवेदनशील बनाने की बात करती है। अमित देसाई ने कहा कि अगर आर्यन खान ने ड्रग्‍स सेवन का अपराध किया है, तो कृपया उनका बयान देखें। मान लें कि सेवन की बात कुबूल की गई है, सबसे अध‍िक सजा क्या है? 1 साल। जब कोई उनकी जांच को नहीं रोकता है तो आप उकी आजादी को क्‍यों रोक रहे हैं।

वहीं, एनसीबी की तरफ से एएसजी अनिल सिंह ने कहा कि उनके अधिकारी दिन-रात काम कर रहे हैं और मादक पदार्थों की तस्करी को खत्‍म करने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ दिन पहले उनके 4-5 अधिकारियों पर हमला हुआ था। वे पिछले एक हफ्ते से अस्पताल में हैं। अनिल सिंह ने कहा कि यह दुर्व्यवहार युवाओं को प्रभावित कर रहा है। वे कॉलेज जाने वाले लड़के हैं, लेकिन यहां जमानत के लिए विचार नहीं किया जाना चाहिए। उन्हें कोर्ट को बताने की जरूरत नहीं है, आप हमारे देश का भविष्य हैं। इसी पीढ़ी पर देश का भविष्य निर्भर करता है।


अनिल सिंह ने कहा कि कोर्ट से उनका निवेदन यह है कि जब हम एनडीपीएस अधिनियम के तहत किसी मामले पर विचार कर रहे हैं, तो कोर्ट को अधिनियम के कड़े प्रावधानों पर विचार करना होगा। अधिनियम की योजना और उद्देश्य को ध्‍यान में रखना होगा। मादक पदार्थों की तस्करी और दुरुपयोग को गंभीरता से लेना होगा, क्योंकि यह प्रकृति और दुनिया को प्रभावित कर रहा है। समय-समय पर संशोधन किए जाते हैं। उन्हें खुशी है कि उनके दोस्तों ने मुंबई में एनसीबी की भूमिका की सराहना की, लेकिन हम पर आरोप भी लगाए जाते हैं।

आर्यन खान

आर्यन खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *