diipa buller khosla on stretch marks: Diipa Buller Khosla Opens Up On Stretch Marks


मां बनना औरत के लिए उपलब्धि की बात है मगर मां बनने के बाद महिलाओं को जिस तरह के शारीरिक बदलावों से गुजरना पड़ता है, उन्हें लेकर वे अक्सर हीन भावना से ग्रसित हो जाती हैं। एक्‍सर्साइज से महिलाएं पेट तो कम कर लेती हैं लेकिन स्ट्रेच मार्क्स जस के तस रहते हैं। उन्हें वे आमतौर पर छिपाने की कोशिशों में लगी रहती हैं। हाल ही में जानी-मानी इन्फ्लुएंसर और मॉडल दीपा भुल्लर खोसला (Diipa Buller Khosla) ने बिंदास अंदाज में इंस्टाग्राम पर अपना दाग-धब्बे वाला पेट दिखाकर बॉडी पॉजिटिविटी को लेकर बहुत ही खूबसूरत मेसेज दिया। दीपा से पहले प्रिया आहूजा, मलाइका अरोड़ा, काम्या पंजाबी, उर्वशी ढोलकिया, छवि मित्तल जैसी ऐक्‍ट्रेसेस भी बिना किसी शर्म के बेबाकी से अपना स्ट्रेचमार्क वाला पेट दिखाकर बॉडी पॉजिटिविटी की हिमायत करती आई हैं।

‘स्ट्रेच मार्क्स के कारण कितना भद्दा लग रहा है, इसका पेट, पहले कैसा सपाट और मक्खन की तरह चिकना हुआ करता था’
‘साड़ी इतना नीचे पहनने की जरूरत ही क्या है जिससे पेट के दाग और भद्दापन नजर आए’


ये कुछ ऐसी बातें हैं जिनको सुनने की शर्म, आशंका और डर से हर उस औरत को गुजरना पड़ता है जो मां बनी हो। बच्चे की डिलिवरी के बाद हर मां को ‘पोस्टपार्टम चेंजेस’ का सामना करना पड़ता है। पोस्टपार्टम चेंजेस का मतलब होता है प्रसव के बाद आने वाले शारीरिक बदलाव, जिसमें पेट की स्किन के लटकने के साथ-साथ स्ट्रेच मार्क्स भी खूब हो जाते हैं। इन्हें लेकर वे शर्म महसूस करती हैं। प्रेग्नेंसी से पहले जहां वे बड़ी शान से नाभि प्रदर्शन, साड़ी या टॉप पहना करती थीं, वहीं बच्चे की पैदाइश के बाद शर्म के मारे पेट छिपाने का सिलसिला शुरू हो जाता है। हाल ही में दीपा भुल्लर खोसला ने बिंदास अंदाज में इंस्टाग्राम पर अपनी दो तस्वीरों के साथ एक पोस्ट शेयर किया। एक तस्वीर में हाई वेस्ट पैंटी से उनका पेट छिपा हुआ है मगर दूसरी तस्वीर में वह मुस्कुराते हुए दिख रही हैं और नाभि से थोड़ा नीचे उनका स्ट्रेचमार्क वाला थुलथुला पेट साफ नजर आ रहा है। दीपा कुछ अर्से पहले मां बनी हैं। उन्होंने अपने पोस्ट के जरिए तमाम मांओं को मेसेज दिया है कि पेट के दाग-धब्बे शर्म की नहीं बल्कि गर्व की बात है।

बॉडी पॉजिटिविटी पर दीपा का स्‍ट्रॉन्‍ग मेसेज
दीपा ने अपने पोस्ट में लिखा, ‘उत्सुक हूं कि प्रसव के 3 से 5 महीनों के बीच मेरी पोस्टपार्टम बॉडी कैसी दिखेगी! हर कोई यही जानना चाहता था कि मैंने अपने फिगर को बहुत जल्दी पहले जैसा पा लिया है तो मैं उन्हें सच दिखाना चाहती हूं कि बच्चे की पैदाइश के बाद आपके शरीर में कैसे बदलाव आते हैं। अभी तक मैं अपनी एक्स्ट्रा स्किन की आदी नहीं हुई हूं और अपनी असुरक्षाओं से घिरी हुई हूं। हालांकि, मैं फिटनेस के लिए हेल्दी डायट और एक्सर्साइज कर रही हूं मगर मैं इस सच से वाकिफ हूं कि मेरी बॉडी पहले जैसी कभी नहीं हो सकेगी और मुझे इसमें कोई आपत्ति नहीं है। मेरा यह शरीर एक समय किसी और इंसान का घर था। यह वही शरीर है जिसने उस बच्चे का पोषण किया, जिसे आज मैं अपनी बाहों में लिए हुए हूं। ये मातृत्व के निशान हैं। मैंने उन्हें गर्व से अपनाने का फैसला किया है। अपने पुराने फिजिक को पाने के लिए मेरी कड़ी कोशिश जारी रहेगी मगर मैं प्रयास करूंगी कि मैं मनचाहे ढंग से कपड़े पहनूं और दिखूं, वह भी गर्व और उपलब्धि के साथ।’ दीपा के इस पोस्ट के बाद यूजर्स अपने शरीर के प्रति उनकी ईमानदारी के कायल हो उठे और बॉडी पॉजिटिविटी को लेकर उनके रवैये की खूब तारीफ की।


स्ट्रेच मार्क्स टैटू की तरह
आमतौर पर महिलाएं भले पेट के स्ट्रेच मार्क्स को दिखाने में शर्म महसूस करें मगर बॉलिवुड की दीवा कहलाने वाली मलाइका अरोड़ा तो कई बार अपने पेट के स्ट्रेच मार्क्स के कारण बुरी तरह से ट्रोल हुई हैं। इसके बावजूद हर बार उन्होंने अपने स्ट्रेच मार्क्स को गर्व से फ्लॉन्ट किया है। मलाइका ही क्यों, टीवी ऐक्‍ट्रेस उर्वशी ढोलकिया को जब बिकीनी वाले पोस्ट के लिए ट्रोलिंग का सामना करना पड़ा तो उन्होंने ट्रोल्स को मुंहतोड़ जवाब दिया था। उर्वशी कहती हैं, ‘मां बनने के बाद महिलाओं के कपड़े पहनने को लेकर लोग उन्हें बुली करने की कोशिश करते हैं पर किसने ये नियम बनाए हैं? अगर किसी में दम है तो मुझे रोककर दिखाए। मुझे अपने शरीर से प्यार है। स्ट्रेच मार्क्स तो सिर्फ निशान हैं, एक टैटू की तरह। मेरे स्ट्रेच मार्क्स इस बात का सबूत हैं कि मेरे अंदर एक जिंदगी जन्मी है और कोई मुझसे उसे दूर नहीं कर सकता।’

स्विमसूट के साथ गर्व से दिखाए मार्क्‍स
ऐक्ट्रेस प्रिया आहूजा ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर स्विमसूट के साथ गर्व से अपने स्ट्रेच मार्क्स दिखाए थे। प्रिया ने लिखा, ‘हां, मैं हंस रही हूं क्योंकि अब मेरे पास पहले जैसी पर्फेक्‍ट बॉडी नहीं है। मेरे शरीर पर ढेर सारे स्ट्रेच मार्क्स हैं। मेरी स्किन भी लूज हो गई है और मुझे अपनी बॉडी पर फिर भी गर्व है क्योंकि मैंने एक नई जिंदगी को जन्म दिया। मेरा पेट उस नई जिंदगी का 9 महीनों तक घर था।’ ऐक्‍ट्रेस काम्या पंजाबी ने भी खुद की बॉडी से प्यार करने और ‘जैसी है वैसी ही’ स्वीकारने को लेकर एक पॉजिटिव पोस्ट लिखा था, ‘मेरी बॉडी मेरा कैनवास है। हर एक मार्क एक कहानी बताता है और मुझे याद दिलाता है कि मैं कितनी बहादुर हूं। मेरे बच्चे और खाने के प्रति मेरे प्यार के कारण जो वजन घटता-बढ़ता रहता था, वह सब एक कहानी कहता है। मुझे अपने इस कैनवास पर बहुत गर्व है।’ पॉप्युलर ऐक्ट्रेस छवि मित्तल ने अपने एक सोशल मीडिया पोस्ट में प्रेग्नेंट महिलाओं से अपील की थी कि वे मानसिक और शारीरिक रूप से फिट रहने पर ध्यान दें और स्ट्रेच मार्क्स या फिर बढ़े वजन के बारे में न सोचें।

क्‍या कहना है डॉक्‍टर्स का?
इस बारे में जे जे हॉस्पिटल के प्लास्टिक सर्जन विनय जैकब कहते हैं, ‘मेरे पास हफ्ते में दो-तीन केसेज तो ऐसे आते ही हैं जो अपने पेट से स्ट्रेच मार्क्स हटाने के इच्छुक होते हैं। उन्हें मिटाना संभव नहीं होता है। जो लोग भी इन्हें मिटाने का दावा करते हैं, वह झूठ है। यंग मदर को टमी टक प्रसीजर से थोड़ी बहुत मदद मिल सकती है। कई बार लोग इसके लिए लिपोसक्शन जैसी सर्जरी का सहारा लेना चाहते हैं मगर वह सर्जरी भी इन्हें पूरी तरह से हटा नहीं पाती और यह काफी महंगी होती है।’ वहीं, जसलोक हॉस्पिटल की हेड ऑफ गाइनकॉलजिस्ट फिरोजा पारिख कहती हैं, ‘स्ट्रेच मार्क्स गर्भावस्था का एक हिस्सा हैं। ये आपके शरीर के स्कार्स (धब्बे) नहीं बल्कि मदरहुड की निशानी हैं। यह बहुत ही नेचुरल है, इससे शर्मसार होने की जरूरत नहीं है।’



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *