javed akhtar calls hindu most decent and tolerant majority in the world says india can never become like afghanistan- जावेद अख्तर बोले- हिंदू दुनिया के सबसे सहिष्णु लोग, भारत कभी नहीं बनेगा अफगानिस्तान जैसा


हाल ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और विश्व हिंदू परिषद (VHP) की तालिबान से तुलना करने पर विवादों में आए गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने अब हिंदू को दुनिया का सबसे ‘सभ्य’ और ‘सहिष्णु’ समुदाय बताया है। जावेद अख्तर ने शिवसेना (Shiv Sena) के मुखपत्र ‘सामना’ में एक लेख लिखा है, जिसमें उन्होंने यह बात कही है।

बता दें कि जावेद अख्तर ने आरएसएस और वीएचपी पर निशाना साधते हुए उनकी तालिबान से तुलना की थी, जिसके कारण उन्हें खूब आलोचना झेलनी पड़ी थी। तब शिवसेना ने भी अपने मुखपत्र में जावेद अख्तर द्वारा की गईं टिप्पणियों पर सवाल उठाए थे और कहा था कि उनका बयान हिंदू संस्कृति के लिए अपमानजनक है। अब उस विवाद के बाद जावेद अख्तर ने शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लेख लिखा है। इसमें उन्होंने यह भी लिखा है कि भारत, अफगानिस्तान कभी नहीं बन सकता।

‘हिंदू सबसे सभ्य और सहिष्णु समुदाय’
लेख में जावेद अख्तर (Javed Akhtar on India and Hindu) ने लिखा है, ‘अपने हालिया इंटरव्यू में मैंने कहा था कि हिंदू पूरी दुनिया में सबसे सभ्य और सहिष्णु समुदाय है। मैंने इस बात पर भी ज़ोर दिया था कि भारत कभी भी अफगानिस्तान जैसा नहीं बन सकता क्योंकि भारतीय स्वभाव से चरमपंथी नहीं हैं। वो नरम विचारधारा वाले हैं। सामान्य रहना उनके डीएनए में है।’

आरएसएस और वीएचपी की तालिबान से तुलना पर हुआ था विवाद

बता दें कि जावेद अख्तर ने पिछले दिनों एनडीटीवी के साथ बातचीत में आरएसएस और वीएचपी की तालिबान से तुलना करते हुए कहा था, ‘जो लोग आरएसएस, वीएचपी, बजरंग दल जैसे संगठनों का समर्थन करते हैं, उन्हें आत्मचिंतन की जरूरत है। निश्चित तौर पर तालिबान मध्ययुगीन मानसिकता वाला है, इसमें कोई शक नहीं हैं, वो बर्बर हैं लेकिन आप जिन्हें समर्थन कर रहे हैं, वे उनसे अलग कहां हैं? उनकी जमीन लगातार मजबूत हो रही है और वे अपने लक्ष्य की तरफ आगे बढ़ रहे हैं। इनकी मानसिकता एक ही है।’

जावेद अख्तर ने कहा था कि भारत में भी ऐसे लोग हैं जो तालिबान की दिशा में जा रहे हैं। इनका भी उद्देश्य वही है। ‘महिलाएं मोबाइल फोन का इस्तेमाल न करें, एंटी-रोमियो ब्रिगेड…ये उसी दिशा में तो है।’

हालांकि ‘सामना’ में लिखे लेख में जावेद अख्तर ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे की तारीफ की और कहा कि कोई भी आलोचक उन पर भेदभाव या अन्याय का आरोप नहीं लगा सकता। वह यह नहीं समझ पा रहे हैं कि भला कैसे और क्यूं कोई उद्धव ठाकरे की सरकार को ‘तालिबानी’ कह सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *