munmun dhamecha lawyer ali kaashif khan deshmukh: Mumbai Cruise Drug Case: मुंबई में क्रूज पर ड्रग्स पार्टी में आर्यन खान के साथ मुनमुन धमेचा भी पकड़ी गई थीं।


बॉम्‍बे हाई कोर्ट में आर्यन खान (Aryan Khan), अरबाज मर्चेंट (Arbaaz Merchant) और मुनमुन धमेचा (Munmun Dhamecha) की जमानत याचिका पर बुधवार को भी सुनवाई अधूरी रह गई। गुरुवार को अब एएसजी अनिल सिंह एनसीबी की तरफ से जमानत का विरोध करेंगे। जस्‍ट‍िस नितिन साम्‍ब्रे की अदालत में मुनमुन धमेचा के वकील अली काश‍िफ खान देशमुख (Ali Kaashif Khan Deshmukh) ने भी बुधवार को जिरह की। उन्‍होंने सीधे शब्‍दों में मुनमुन की गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए एनसीबी को निशाने पर ले लिया। खान ने कहा कि मुनमुन वहां इन्‍वाइट पर गई थीं। जिस कमरे से उन्‍हें हिरासत में लिया गया, वहां सौम्‍या सिंह और बलदेव नाम के दो और लोग मौजूद थे। सौम्‍या के पास से पेपर रोल भी मिला। लेकिन एनसीबी ने सिर्फ मुनमुन को हिरासत में लिया। जबकि उनके पास से न तो ड्रग्‍स मिले हैं और न ही उन्‍होंने ड्रग्‍स का सेवन ही किया था।

‘…तो सभी 1300 लोगों को हिरासत में लेना चाहिए था’
कोर्ट में पहले वकील अमित देसाई ने अरबाज मर्चेंट की जमानत के लिए पैरवी की। उनके बाद मुनमुन धमेचा के वकील अली काश‍िफ खान देशमुख की बारी आई। खान ने कहा कि यदि एनसीबी ने वहां संदेह के आधार पर ही लोगों को हिरासत में लिया है, तो उन सभी 1300 लोगों को हिरासत में लेना चाहिए था जो क्रूज पर सवार थे। और यदि यह बरामदगी के हिसाब से है, जिसे मैं नहीं मानता, क्‍योंकि मुनमुन के पास कोई जब्‍ती नहीं हुई है तो कमरे में मौजूद सौम्‍या और बलदेव को क्‍यों छोड़ दिया गया?

‘मुनमुन के वहां पहुंचते ही पड़ा था छापा’
खान ने कोर्ट में जिरह की शुरुआत करते हुए कहा, ‘मुनमुन पेशे से एक मॉडल हैं। उन्‍हें क्रूज पर इन्‍वाइट किया गया था। जैसे ही वह अंदर गईं, 2-3 मिनट के भीतर उन्‍हें रोक लिया गया। दिलचस्प बात यह है कि कमरे में दो लोग थे। पंचनामा जरूर देखें। मैं उन्हीं के केस पर भरोसा कर रहा हूं। वर्तमान मामले में कमरे में सौम्या सिंह और बलदेव हैं। लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया। तलाशी के दौरान कुछ नहीं मिला, लेकिन तब सौम्या सिंह के पास से रोलिंग पेपर बरामद हुआ था। तो मेरे खिलाफ कुछ भी नहीं है, उनका मामला सौम्या के खिलाफ है। व्यक्तिगत तलाशी ली गई, मुनमुन के खिलाफ कुछ भी नहीं मिला। मेरे खिलाफ दूसरे मामले से कॉपी पेस्ट किया गया। मेरा मामले में अगर वे लोगों को संदिग्ध के रूप में गिरफ्तार करते हैं, तो सभी 1,300 लोगों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए था।’

आर्यन ड्रग्स केस: धनबाद के मनीष-अवीन साहू को कैसे मिली जमानत, सुनिए मामले की कहानी वकील की जुबानी

कोर्ट ने पूछा- सौम्‍या सिंह आपकी साथी हैं?
खान ने आगे कहा, ‘मुनमुन मध्य प्रदेश से नहीं हैं। मुनमुन किसी से कोई संपर्क नहीं है। मुनमुन को आमंत्रित किया गया था। मुनमुन के माध्यम से उन्होंने किसी को गिरफ्तार नहीं किया है।’ इस पर कोर्ट ने पूछा- सौम्या सिंह आपकी साथी हैं? उसके बैग से कुछ मिला.. वह आरोपी नहीं है? इस पर खान ने कहा- मैं उन्हें जानता तक नहीं।

‘वॉट्सऐप चैट्स को रिकॉर्ड में रखे एनसीबी’
देशमुख ने इसके बाद निचली अदालत के आदेशों को सामने रखा। उन्‍होंने कहा कि सेशंस कोर्ट का आदेश मुनमुन के मामले में 90% मौन है। वह कहते हैं, ‘ये सारे आरोप अन्य आरोपियों पर हैं। मुनमुन मौजूदा मामले से जुड़ी हुई नहीं हैं। उनके पास से कुछ नहीं मिला। यदि वे मेडिकल टेस्‍ट करते हैं, तो भी उन्हें मुनमुन के खिलाफ कुछ भी नहीं मिलेगा। उसने कभी ड्रग्स का सेवन नहीं किया। धारा 29 में एक कमी है जिसे इस अदालत को पूरा करने की जरूरत है। धारा 29 छोटी, मीडि‍यम या बड़ी मात्रा से संबंधित नहीं है। एक मामले में उन्होंने बड़ी चतुराई से छोटे-मोटे लोगों को शामिल किया है और इस वजह से मजिस्ट्रेट कोर्ट हस्तक्षेप नहीं कर सका। मैं केरल हाई कोर्ट के फैसले पर भरोसा कर रहा हूं, जहां कम मात्रा में जमानत दी गई थी। मैं कह रहा हूं कि मुनमुन का किसी से कोई संबंध नहीं है। लेकिन एनसीबी के जवाब में कह रही है कि वह इश्मीत सिंह से जुड़ी हैं। मैं एनसीबी से वॉट्सऐप चैट को रिकॉर्ड में लाने का अनुरोध करूंगा।’

मुनमुन धमेचा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews