sanjay raut shares aryan khan video: Aryan Khan with KP Gosavi in this video shared by Sanjay Raut shares and Nawab Malik says Satyamev Jayate: संजय राउत ने शेयर किया एनसीबी के ऑफिस से आर्यन खान का वीडियो क्लिप, नवाब मलिक बोले- सत्य ही जीतेगा


मुंबई क्रूज़ ड्रग्स (Mumbai Drugs case) मामले में नई बातें सामने आ रही हैं। जहां एक तरफ शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan Video in NCB Office) पर ड्रग्स को लेकर तमाम सबूत जुटाने में एनसीबी कमर कसकर खड़ी है, वहीं अब जो खबरें आ रही हैं वह वाकई हैरान करने वाली हैं। रेड के दौरान आर्यन खान के साथ नजर आए दो अनजान शख्स को लेकर विवाद पहले से ही चल रहा है, अब एनसीबी को लेकर कई हैरान करने वाली बातें कही जा रही हैं। इस केस पर शुरुआत से ही राजनीतिक रंग भी चढ़ता नजर आ रहा है

शिवसेना सांसद संजय राउत ने एनसीबी दफ्तर के अंदर का वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में एनसीबी की कस्टडी में आर्यन खान नजर आ रहे हैं और उनके साथ नजर आ रहा है केपी गोसावी, जिन्हें एनसीबी ने स्वतंत्र गवाह बताकर पल्ला झाड़ लिया था। संजय राउत ने इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर कर लिखा है कि आर्यन खान केस में गवाह से सादे कागज पर एनसीबी ने साइन करवाया जो कि बेहद शॉकिंग है।

गवाह बोला- हुई थी समीर वानखेड़े को 8 करोड़ देने की बात, पूजा ददलानी ने की थी गोसावी से मर्सिडीज़ में मीटिंग

राउत ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को टैग करते हए लिखा है, ‘यह भी खबर है कि बहुत बड़ी रकम की मांग की गई थी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा था कि ये केस महाराष्ट्र को बदनाम करने के लिए बनाए जा रहा है और यह वाकई सच होता दिख रहा है। पुलिस को इसका स्वत: संज्ञान लेना चाहिए।’

एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए ट्वीट में लिखा है, ‘सत्य ही जीतेगा, सत्यमेव जयते।’

बता दें कि रेड के दौरान वाले वीडियो के सामने आने के बाद उसमें दो अनजान शख्स को लेकर चर्चा थी। इनमें से एक का नाम केपी गोसावी बताया गया और दूसरे का नाम मनीष भानुशाली बताया जिसे बीजेपी का उपाध्यक्ष बताया गया। एनसीबी ऑफिस के अंदर से गोसावी की सेल्फी पर सवाल उठाते हुए एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Malik)ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि इस बात की जांच की जानी चाहिए कि सेल्फी में नजर आ रहा शख्स कौन है? इसके बाद समीर वानखेड़े की तरफ से इन्हें स्वतंत्र गवाह बताया गया और कहा गया कि ये उनकी टीम में न तो कार्यरत हैं और न ही किसी तरह से उनका हिस्सा हैं।

अब सोशल मीडिया पर लोग हैरानी जता रहे हैं कि कोई आम नागरिक या स्वतंत्र गवाह को एनसीबी ऑफिस के अंदर जाकर किसी केस की जांच में हाथ बंटाने की अनुमति कैसे मिल सकती है। क्या कोई गवाह ऐजेंसी ऑफिस में पहुंचकर आरोपी के साथ फोटो खिंचवा सकता है?

मजेदार यह है कि जो गोसावी इतने तनकर एनसीबी ऑफिस में आर्यन खान के साथ बैठे नजर आ रहे हैं वह खुद पुणे के ठगी मामले में आरोपी हैं और फरार चल रहे हैं। पुणे पुलिस ने हाल ही में गोसावी के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया था ताकि वह देश छोड़कर नहीं भाग सके। गोसावी ने चिन्मय देशमुख नाम के एक व्यक्ति को मलेशिया के होटल उद्योग में नौकरी दिलवाने के बहाने उससे 3.09 लाख रुपये ठग लिए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews