children of 5 to 11 years of age will also get corona vaccine in America, health officials have given permission|अमेरिका में अब 5 से 11 साल के बच्चों को भी लगेगी कोरोना वैक्सीन,स्वास्थ्य अधिकारियों ने


Image Source : PTI
अमेरिका में अब 5 से 11 साल के बच्चों को भी लगेगी कोरोना वैक्सीन,स्वास्थ्य अधिकारियों ने दी इजाजत

वाशिंगटन: अमेरिका के स्वास्थ्य अधिकारियों ने ‘फाइज़र’ के कोविड-19 रोधी टीके की बच्चों के मुताबिक तैयार खुराक 5 से 11 वर्ष के बच्चों को देने की मंगलवार को अनुमति दे दी। खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने 5 से 11 वर्ष की आयु के बच्चों को टीके की खुराक देने की अनुमति पहले ही दे दी थी। यह खुराक वयस्कों और किशोरों को दी जाने वाली खुराक की एक तिहाई है। लेकिन एफडीए द्वारा स्वीकृत टीके किसे दिए जाएं इसकी औपचारिक अनुशंसा रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केन्द्र (सीडीसी) करता है। 

एक सलाहकार पैनल के सर्वसम्मति से ‘फाइज़र’ के टीके की खुराक 2.8 करोड़ बच्चों को दिए जाने का फैसला करने के कुछ ही घंटों बाद सीडीसी की निदेशक डॉ.रोशेल वेलेंस्की ने उक्त घोषणा की। इस फैसले के साथ ही पहली बार अमेरिका में 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को कोविड-19 रोधी टीके लग पाएंगे। 

वेलेंस्की ने मंगलवार रात को एक बयान में कहा, ‘‘एक मां होने के नाते, मैं सभी अभिभावकों को कहना चाहती हूं कि वे बाल विशेषज्ञों, स्कूल की नर्स या स्थानीय चिकित्सकों से टीके के बारे में और जानकारी लें तथा बच्चों के टीकाकरण के महत्व को समझें।’’ 

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने इसे एक महत्वपूर्ण फैसला बताया। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘ इससे अभिभावकों की उनके बच्चों को लेकर कई महीनों से बनी चिंता खत्म हो गई।यह वायरस से निपटने की दिशा में हमारे देश के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है।’

कोविड के सस्ते टीके का विकास किया, दाम 1.5 डॉलर प्रति खुराक

भारतीय दवा कंपनी बायोलॉजिकल ई और टेक्सस चिल्ड्रन्स हॉस्पिटल एवं बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन के बीच साझा वैश्विक स्वास्थ्य के लिए किए जा रहे सहयोग, ‘टेक्सस-भारत टीका कूटनीति’ ने कोविड-19 के लिए एक सस्ते टीके का विकास किया है जिसकी कीमत 1.50 डॉलर (करीब 113 रुपये) प्रति खुराक होगी। एक शीर्ष अमेरिकी वैज्ञानिक ने यह जानकारी दी। 

इंडो-अमेरिकन चेंबर ऑफ कॉमर्स ऑफ ग्रेटर ह्यूस्टन (आईएसीसीजीएच) के 2021 के वार्षिक समारोह को संबोधित करते हुए बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर और नेशनल स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन के डीन डॉ.पीटर होटेज ने कहा कि इस गठजोड़ ने रिकॉर्ड समय में लोगों के लिए सस्ते टीके का विकास किया है। उन्होंने कहा कि यह आने वाले महीनों में दुनिया के कम आय वाले देशों को टीकों के अंतर को भरने में मदद करेगा। 

डॉ.होटेज ने कहा, “कोविड-19 टीका जल्द ही भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए पेश किया जाएगा और हर महीने 10 करोड़ खुराक का उत्पादन किया जाएगा। यह मुश्किल रहा है, लेकिन अब तक की सबसे संतोषजनक गतिविधि है जिसमें मैं शामिल रहा हूं।” उन्होंने कहा कि एक बार भारत में टीका पेश करने के बाद इसके वैश्विक उपयोग के लिए आपातकालीन सहायता करने के लक्ष्य के करीब पहुंचने में मदद मिलेगी और इसका उद्देश्य होगा कि दुनिया को भी इससे फायदा मिले।

इनपुट-भाषा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews