जांजगीर चांपा समाचार: शरद संगीत आयोजनों ने गीत की संगीत की ध्वनि


प्रकाशन तिथि: | शनिवार, 23 अक्टूबर 2021 10:44 अपराह्न (आईएसटी)

हसौद ।(नई न्यूज न्यूज न्यूज) पौनेमाँ पर पूर्णिमा का मौसम बदली मौसम में बदल गया है। संगीत की देवी माँ सरस्वती, संतरोमणी गुरूजी बाबा बाबा, गुरुदेव एमबी बंदे पूजा के कार्यक्रम शुरू हो गए। विद्यालय के विद्यार्थियां विद्या वन्दना ,गुरु वन्दना राग यमन रूपक और तीन . तिवारी बिरद्रा राग यमन में बडी अच्छी तरह से, ख्याली, तराना और मिकी कश्यप और पवन कश्यप राग शुद्घ सारंग में मनमोहक गीत लिखा गया। बाल कला दिब्यसंभाव्य कश्यप खारागढ़ बागे, बडा ख्याल, छोटे से ओ को आनंदित कर। सोमा बरेठ खारागढ़ का कथक नृत्य मनमोहक. तबला मास्टर यशवंत वैष्णव ने तीन ताल में सोलो वादन किया। पेशकार, अलगा घर के अंदर, रेला, परन, टुकडे, च-र दारोगा समा… इसके साथ ही साथ रहने वाले वैडक के रूप में कौस्तुभभाग्यवांतरण मुंबई। डाँमोनियम में लहरी लहरी दास महंत खारागढ ने। इंद्र कला विश्व विद्यालय खारागढ़ के सहायक प्रध्यापक डॉक्टर दिवाकर कश्यप, डॉ प्रभाकर कश्यप द्वारा राग बैरागी में मन सुमिरत निस दिन तुम्हर नाम तीन ताल और दुसरी बंधी दाता दाता एक ताल में अपनी आवाज कर कश्यप बना। अस्तव्यस्तता के साथ वैष्णव संवत्‌ इस कार्यक्रम के अतिथि अम्बिका रोकड़े, मनबोध साहू, सुरेंद्र भार्गव, कमल भार्गव, हेम चरण साहू, वीरेंद्र तिवारी, ताराम तिवारी, हरि राम जायसवाल, मनोज तिवारी, एचएल भारत, बौद द्विवेदी, डॉक्टर मनहर, चिकित्सक, डॉक्टर आरके दीकर, परमानंद जांग, बिहारी सक्सेसना में। सरगम अकादमी के अध्यक्ष आर के सोनवानी और केआर कश्यप ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

—————

द्वारा प्रकाशित किया गया था: नई दुनिया न्यूज नेटवर्क

नईदुनिया लोकल

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews