झांसी दतिया रोड दुर्घटना समाचार कंधों पर शव और मासूम बच्चे के शव देख पांडोखर गांव आंसुओं में डूबा


प्रकाशन तिथि: | शनि, 16 अक्टूबर 2021 दोपहर 12:48 बजे (आईएसटी)

झांसी दतिया सड़क दुर्घटना समाचार: कुलदीप सक्सेसना, दतिया नया जीवन। सुबह 6 बजे महिला रात में यौन रूप से सुसज्जित और 4 मासूम मासूम के कपड़े पहनने के लिए, विशेष रूप से बेबी तो पूरे गांव में जैसे दिखने वाले सैलाब सा आ गया। एक साथ नजर आ रहा है। मृत्यु के इस तांडव को लोग स्तब्ध रहे थे। महिलाओं की आवाज़ से आवाज़ें आवाज़ें बजाती हैं। घटना के बाद के गंव में पंडोखर गांव के पहुंज नदी के अंत में रिश्ते की घटना होगी। शुक्रवार को रात को नहाने की जगह को साफ किया गया था। जुड़वां बच्चों में गर्भ धारण करने के लिए 4 गडढ़े बच्चे होते हैं। शुक्रवार-शनिवार की शाम 1.15 बजे वाहन से पंडोखर गांव में आए।

सुबह 10.15 बजे बजे मतदान के दौरान महिला के गर्भ में गर्भ के साथ शादी हुई। वहीं 4 मासूम बच्चों को वहां खोदे गए गड्ढ़ाें में दफना दिया गया। जैसे कि ही पंडोखर गांव में 6 चिता जलमिंग, डाइवर्टेड व्यवहार में डाइंग किया गया। बहुत ही कठिन समस्या थी जब उनके जीवन में यह देखा गया था। वह इस बात को गलत तरीके से जानता है। भांडेर विधायक रक्षक सिरानिया, प्रतिनिधि संतराम सिरोला, जिला पंचायत मंडल हरम त्रिपाठी, जिला मुख्यालय भटनागर, एस एस इकबाल अधीक्षक, प्रभारी अधिकारी सूर्यकांतपाठी, नायब तहसीलदार शिव सिंह गुर्जर, जनसंपर्क प्रबंधक हरम त्रिपाठी सहित अन्य अंतिम यात्रा में शामिल होंगे। जन्म के बाद के जन्म के समय जन्म के समय जन्म के समय 5-5 हजार की राशि संबंधित होती है। अतिशयोक्तिपूर्ण योजना के अनुसार, 24 घंटे की अवधि में जल्द ही ठीक हो जाएगा।

मृत महिला का शरीर पंडोखर में 7 महिलाएँ और 4 आँकड़ों की संख्या में वृद्धि हुई थी। शुक्रवार रात पंडोखर सभी को मिला। बाद में एक मराटा कुसमाँ खराब होने के बाद बदली के लिए रीसेट करें। स्त्री का अंतिम संस्कार संपन्न हुआ।

जॉइंट के लिए मन्नत, वे दुनिया में बने रहे इस हादसे में सबसे दुखद यह रहा कि जिन बच्चों के लिए अनिल और पवन दोहरे ने ज्वारे चढ़ाने की मन्नत मांगी थी, उन दोनों की भी हादसे में मौत हो गई। परिवार की 9 पता लगाने की प्रकृति। ट्विन ऐल के भाई का शब्द क्रम बदल गया है। खुशियों के लिए यह परिवार समृद्ध है।

रात भर में गर्जना की आवाज़: शुक्रवार की रात जैसे ही पूरे दिन 4 बजे हर स्त्री की आंखों में लगा। उलटे परिवार के लोगों में इस बात को नापसंद करने वाले खिलाड़ी के पास गांव में भांडेर थाने का एक रक्षक रामहुर था। कोई उत्तरदायी अधिकारी नहीं है।

द्वारा प्रकाशित किया गया था: विकास पांडेय

नईदुनिया लोकल

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews