बिलासपुर रेलवे में राजभाषा कार्यक्रम: बिलासपुर रेल की प्रगति ने कहा- राष्ट्रभाषा की के लिए राजभाषा के साथ जुड़कर जन बनाना बनाना


प्रकाशन तिथि: | गुरु, 23 सितंबर 2021 01:42 अपराह्न (आईएसटी)

बिलासपुर। बिलासपुर रेलवे में राजभाषा कार्यक्रम: राजभाषा के साथ जुड़ने के लिए जन्नयन बनाने के लिए। वास्तविक सेवा है। ये बातें दक्षिण पूर्व मध्याह्न के मध्य के महाप्रबंधक आलोक कुमार ने राजभाषा कार्यक्रम की बैठक कार्यक्रम के बाद की। व्हीक भर टीवी कार्यक्रम के बाद भी ऐसा ही किया गया था। पुरस्कार प्राप्त करने के लिए मंत्रमुग्ध किया गया।

संचार की घटना की घटना की घटना की बैठक मौसम की बैठक की स्थिति में होती है। मुख्‍य प्रबंधक व अन्य प्रबंधन अधिकारी अन्य प्रबंधक प्रबंधक व अन्य अधिकारी मुख्य राजभाषा अधिकारी अमिताव चौधरी ने बैठक की शुरुआत भाषण से की। वे खतरनाक थे जैसे:

मीटिंग के बाद दक्षिण पूर्व मध्य मध्य रेलवे के कवियों ने एनालाइन ‘काव्य सय’ में अपनी अजीब कविताएं की। , जनसंपर्क अधिकारी साकेत रंजन व बिलासपुर रेल मंडल की महिला रेल मंडल की महिला रेल मंडल की मंडली सोम प्रभामंडल और सौर्य महंत ने वर्तन से सभी आँवों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

समय से संपर्क किया गया

हिन्दी समीक्षा समीक्षा के लिए ️ सतर्कता️ सतर्कता️ सतर्कता️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है

आदर्श प्रदर्शन कुमार झा, आस्टेट दिलीप कुमार कैवर्त्य, स्वास्थ्य सुरक्षा अधिकारी केवी रमणा, मुख्य कर्मचारी कल्याण अधिकारी के वी रमणा, मुख्य अधिकारी देवेंद्र कुमार चतुर्वेदी और प्रारूप लेखन के डॉक्टर साहू, ललित कुमार दास ट्रैकरेनर, एस.एन.स्वर्णाकार, सतीश कुमार राठौर, चूड़ामणि राठौर और हिंदी वाक प्रतियोगिता के लिए उन्नत श्रेणी के खिलाड़ी थे।

द्वारा प्रकाशित किया गया था: संदीप यादव

नईदुनिया लोकल

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *