मिहिर भोज-वस्तु-श्रृंखला- से ढांकने परर्ज समाज ने रातों तक बाजी या उत्पात किया



गुर्जर समाज के लोगों ने सुबह से शाम तक उतरते हुए मचाया। .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *