हिंसा प्रभावित करौली में हिंदुओं को धमकी देने वाले शख्स का बताकर तेलंगाना का वीडियो वायरल


राजस्थान के करौली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल है. इसके साथ शेयर किये जा रहे कैप्शन के मुताबिक, एक मुस्लिम व्यक्ति ने हिंदू समुदाय के सदस्यों को धमकी दी.

वीडियो में मुस्लिम वेशभूषा में दिख रहा एक व्यक्ति कहता है, “[ऑडियो साफ नहीं है] ये देखो.. ये गाड़ी (पुलिस की पीसीआर वैन की ओर इशारा करते हुए), ये देखो दो गाड़ी … ये देखो तीन गाड़ी, ये देखो चार गाड़ियां… ठीक है? हमारे एरिया में…स्टार होटल के सामने…हम जरा कुछ करें तो तहलका मचा देते हैं ये लोग…इतना डर काफी है तुम्हारे लोगों के लिए.. समझे न.. समझ गए शायद न.”

इस वीडियो को कई लोगों ने ट्विटर पर शेयर किया है.

फ़ेसबुक पर भी इसे शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि घटना करौली की है.

तेलंगाना का वीडियो

वीडियो रिकॉर्ड करने वाले व्यक्ति का कहना है कि वो अपने एरिया में ‘स्टार होटल’ के सामने है. होटल का साइनबोर्ड दिखाने के लिए वो अपना कैमरा भी घुमाता है. वीडियो के दृश्य को एक साथ रखते हुए हमने देखा कि उसके पीछे के बोर्ड पर लिखा है, “स्टार होटल”, “SPL, और “ग्रीन टी.”

इसे ध्यान में रखते हुए हमने गूगल पर एक कीवर्ड सर्च किया जिससे हमें निज़ामाबाद, तेलंगाना में स्थित जस्ट डायल पर दो होटल मिले. जिनका साइनबोर्ड और नाम दोनों एक ही था. तस्वीरों की तुलना वीडियो से करने पर हमने देखा कि एक होटल में स्टोर के ठीक बाहर एक पान की दुकान है और ये वायरल वीडियो में देखे गए विज़ुअल्स से मेल खाता है. इससे हमें ये पता करने में मदद मिली कि होटल का नाम ‘स्काई स्टार होटल’ है.

इसके बाद हमने एक और गूगल सर्च किया. हमने देखा कि होटल स्थायी रूप से बंद कर दिया गया है. इससे पता चलता है कि वीडियो हाल का नहीं हो सकता है क्योंकि इसे तब शूट किया गया था जब होटल खुला था.

गूगल अर्थ प्रो का इस्तेमाल करके हमने उस सड़क को जिओलोकेट किया जहां वीडियो शूट किया गया था. इससे भी साबित होता है कि वीडियो असल में निज़ामाबाद, तेलंगाना का है. इस सड़क का बेहतर नज़ारा गूगल स्ट्रीट व्यू पर मौजूद है.

हमने फ़ेसबुक पर एक कीवर्ड सर्च भी किया जिससे हमें 2020 और 2021 में पोस्ट किया गया यही वीडियो मिला.

ऑल्ट न्यूज़ वीडियो में दिख रहे व्यक्ति की पहचान या उसके संदर्भ को वेरीफ़ाई नहीं कर सका कि इसे कब और क्यूं शूट किया गया था. लेकिन, ये साफ है कि वीडियो राजस्थान के करौली का नहीं है,जहां हाल ही में सांप्रदायिक हिंसा हुई है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllwNews