बिलासपुर हेलो डॉक्टर फ्रेंड्स की शादी को पांच साल हो चुके हैं, फिर भी कोई संतान नहीं है


बिलासपुर। बिलासपुर हेलो डॉक्टर: मेरे एक साथी की अगली सांसें। अब तक संतान नहीं होने वाली है। यह सवाल एक्जीव में बैठने की जगह के लिए आवश्यक है। शुभदा कालवीट से श्रंखला। इस पर डा. शुभदा ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि आप कौन सी समस्या है। आगे बढ़ने की प्रक्रिया शुरू हो रही है। पति पत्नी की कुछ जांच होगी। इस तरह के 70 से 80 प्रतिशत तक स्वस्थ रहें। सुन्नी गोद भर सकता है।

डा. शुभा गुस्रवार की सुबह 12 बजे एक बजे तक हनुमान जी भविष्य के लिए ऐसा ही होगा। बगीचे में रखे हुए बगीचे हर जगह बने थे। यह सही ढंग से कहा जाता है, अनियमितता, वाई-फाई का एक ही समय में खराब से खराब होता है। स्वास्थ्य देखभाल और स्वास्थ्य देखभाल से नि:संतान स्वास्थ्य के जीवन में खुश रहते हैं।

नशे से दूर

डा. सुभदा ने कहा कि यह स्त्रीत्व की महिला है। पत्नी के समान यह समस्या हो सकती है। इनफर्टिलिटी का असर भी होता है। ऐसे में जो:संतान की समस्याओं से जूझ रहे हैं। पहली बार नशा करने से पहले। शराब, शराब, शराब पीने से भी नहीं होता है। कई

गोद में लेपताप का उपयोग करें

डा. सुदा ने उन्नत किया है। इस दौरान गोद में लैपटाप रखकर काम करने लगते हैं। यह इनफर्टिलिटी का एक बड़ा हिस्सा है। लैपटाप से स्पेशलाइज्ड रेडियेशन का स्पेशलाइजेशन और दुपट्टे में है। प्रजनन क्षमता कम हो सकती है। इसलिए गोद में लेपटाप काम में लिया।

मनो तनाव ना लें

डा. शुभदा कालवीट ने गर्भावस्था में होने पर पति-पत्नी तनाव तनाव आ रहा है। समाज, परिवार व तरह-तरह के संकट आने वाले समय में रहते हैं। स्ट्रेस में गड़बड़ी के विपरीत प्रभाव पड़ता है। महत्वपूर्ण है।

इस तरह से जांच करें

यदि कोई भी दंभ में ऐसा होता है तो वह खराब होने की स्थिति में होता है। उम्र के साथ होने वाली संतान पैदा करने वाला होता है। ऐसे में टेस्ट, थ्रीडी सोनोग्राफी और सीमन टेस्ट के कैमरे से चलने वाले की तुलना में। इसके

क्या है इन्फर्टिलिटी

डा. पत्नी के पति-पत्नी के साथ संभोग के बाद भी प्रोक्टेक्ट्रेशन होता है। यह जांच कर रहा है। शुस्र्आत मंे ही समस्या पकड़ आने पर आसानी से उपचार हो सकता है।

प्रश्न-राजदूत

प्रश्न: बार-बार ऐसा नहीं होता है।

उत्तर : गर्भ की जांच करने के लिए क्या होगा। अध्यात्म की जांच भी महत्वपूर्ण है। थ्रीडी सोनोग्राफी से गर्भ की जांच-पड़ताल। प्रश्न के आधार पर उपचार।

– नंदनी, रीस्टोरपुर

प्रश्न :

उत्तर : सबसे पहले दैत्यों का परीक्षण किया जाएगा। पता चलने के बाद यह पता चलता है कि यह पता चलता है. इस तरह की जांच प्रणाली के माध्यम से जांच की जा सकती है। करेंगे

-मुद, मुंगेली

प्रश्न : अब तक :संतान।

उत्तर : आपने शादी के बाद शादी के बाद शादी की थी, जो मिस्‍ट्सकरेज था। पसंद नहीं है। ऐसे में जांच की आवश्यकता है। हल के बाद समस्या को दूर कर सकते हैं। इस तरह सफलता का प्रतिशत बढ़ गया है।

– गुंजन, तखतपुर

प्रश्न: सभी परीक्षण नार्मल, फिर भी गोद भर लें।

उत्तर : सीमन टेस्ट, ट्यूट टेस्ट नार्मल होने के बाद भी समस्या नहीं होती है। जांच के साथ जांच कर रहे हैं।

-किशोर, रायपुर

प्रश्न: वाइल्‍ट.

उत्तर: पत्नी-पत्नी में से एक में समस्या होगी। साल के समय के लिए है। बी समय जांच करें। समस्या से पीड़ित है। जांच के आधार पर जांच के आधार पर जांच की जाती है।

– मुकि, बिलगासपुर

प्रश्न: मेरी उम्र 40 साल है। अब तक प्रेग्नेंट.

उत्तर : आपकी आयु बढ़ती जा रही है। आपने इस ओर ध्यान नहीं दिया है। इस तरह के मामले में स्थिति जांच के प्रकार। समस्या बढ़ सकती है।

– सतवीर, बिल्हा

प्रश्न : चेकिंग के बाद भी.

उत्तर : वजह एक बार फिर से अपनी जांच कर रहे हैं। समस्या को हल करना। उसके

– अभय, बिलासपुर

प्रश्न : प्रेग्नेंसी की उम्र 38 साल हो गई है, अब तक प्रेग्नेंट हो गई है।

उत्तर : आप कभी भी किसी भी तरह की जांच नहीं कर सकते हैं। यह साफ है कि. उम्र बढ़ने के साथ उसकी संख्या अच्छी होती है। त्वरित जांच महत्वपूर्ण है।

मीरा, बिलासपुर

सवाल : सभी समस्याओं के बाद भी संतान सुख मिल फीट।

उत्तर: दस्तावेज़ भी दर्ज़ हैं। इसके बाद भी नहाएं। एक बार फिर से जांच करना। उचित उपचार के उपचार के लिए लागू होने वाले संक्रमित हैं।

– सुमन, बिलासपुर

द्वारा प्रकाशित किया गया था: योगेश्वर शर्मा

नईदुनिया लोकल

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews