Mercury Effect: बुध 22 सितंबर से तुला में और 27 सितंबर से होगा वक्री, जानें असर | Mercury will be retrograde from September 22 in Libra : Read Effects


Astrology

lekhaka-Gajendra sharma

|

नई दिल्ली, 21 सितंबर। वाणी, बुद्धि, धर्म-कर्म, कारोबार का प्रतिनिधि ग्रह बुध 22 सितंबर 2021 से तुला राशि में प्रवेश कर रहा है। शुक्र की राशि तुला में जाने के पांच दिन बाद ही यह वक्री हो जाएगा। बुध के 22 दिन वक्री रहने के दौरान सभी राशि के जातकों को खास सावधानी रखने की आवश्यकता होगी। वैदिक ज्योतिष के ग्रंथों के अनुसार बुध जब वक्री हो तो किसी भी काम में अति उत्साह नहीं दिखाना चाहिए। वक्री बुध के समय में जल्दबाजी या अति सक्रियता में कोई काम करने से परिणाम बुरे मिलते हैं। नए कार्यो को बुध के मार्गी होने तक टाल देना चाहिए।

बुध 22 सितंबर को प्रात: 8.16 बजे तुला राशि में प्रवेश करेगा और 27 सितंबर को प्रात: 10.41 बजे वक्री हो जाएगा। इसके बाद वक्री अवस्था में यह 1 अक्टूबर को रात्रि में 2.47 बजे पुन: कन्या राशि में प्रवेश कर जाएगा। 18 अक्टूबर को रात्रि में 8.45 बजे मार्गी होगा और पुन: तुला राशि में 2 नवंबर को प्रात: 9.50 बजे प्रवेश कर जाएगा।

ऐसे समझें..

  • बुध तुला में 22 सितंबर को प्रात: 8.16 बजे से
  • बुध वक्री 27 सितंबर को प्रात: 10.41 बजे से
  • वक्री बुध कन्या में 1 अक्टूबर को रात्रि 2.47 बजे से
  • बुध मार्गी 18 अक्टूबर को रात्रि 8.45 बजे से
  • बुध पुन: तुला में 2 नवंबर को प्रात: 9.50 बजे से

जन्म कुंडली में वक्री बुध हो तो क्या करें

जिन जातकों की जन्मकुंडली में बुध प्रारंभ से ही वक्री होकर बैठा हुआ है वे बुध के इस वक्रत्व काल में सावधान रहें। अपनी वाणी पर काबू रखे। किसी को अपमानजनक शब्द न कहें। इस समय में नया कार्य बिलकुल प्रारंभ न करें। कार्यस्थल पर जो जैसा चल रहा है चलन दें। बड़ा निवेश करने से बचें। दांपत्य जीवन में तनाव पैदा हो सकता है। पति-पत्नी में बड़े विवाद हो सकते हैं। खासकर वृषभ-तुला और मिथुन-कन्या राशि के जातक सतर्क रहें।

यह पढ़ें: September month 2021 Festivals List: ये हैं सितंबर महीने के प्रमुख त्योहार और व्रतयह पढ़ें: September month 2021 Festivals List: ये हैं सितंबर महीने के प्रमुख त्योहार और व्रत

क्या करें सभी राशि वाले

बुध के वक्री होने के दौरान सभी राशि के जातक बस अपना कर्म पूरी ईमानदारी से करते जाएं। किसी से लफड़े में न पड़ें। अनावश्यक तनाव न लें। बुध 22 दिन वक्री रहेगा इस दौरान अपने कर्म शुद्ध रखें। पैसों का लेन-देन करने में सावधानी रखें।

क्या उपाय करें

भगवान श्री गणेश के नित्य दर्शन करें। गाय को हरा चारा खिलाएं। गणेशजी को दूर्वा अर्पित करें। भोजन में हरी सब्जियों का प्रयोग अधिक करें। तुलसी, पीपल, बरगद वृक्षों की सेवा करें।

English summary

Mercury will be retrograde from September 22 in Libra, read is dull details here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *