Delhi Air Pollution Level Latest News Update In Hindi Delhi Air Quality Index Serious With Faridabad The Air In Other Cities Of Ncr Is Also Very Bad – प्रदूषण की मार: लगातार दूसरे दिन फरीदाबाद और दिल्ली की हालत गंभीर, एनसीआर के बाकी शहरों की हवा भी बेहद खराब


सार

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, एनसीआर के दूसरे शहरों की हवा भी ज्यादा बेहतर नहीं रही। इन शहरों की हवाएं बेहद खराब के उच्चतम स्तर में रहीं। गाजियाबाद का सूचकांक 368 रिकॉर्ड किया गया। जबकि ग्रेटर नोएडा का 352 व गुरूग्राम का 362 पर रहा।

ख़बर सुनें

दिल्ली-एनसीआर में सुधार के बाद भी हवाएं लगातार दूसरे दिन शनिवार को जहरीली बनी रहीं। हरियाणा के फरीदाबाद के साथ दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ऊपर रिकार्ड किया गया जबकि गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा व गुरूग्राम में यह आंकड़ा 350 से ऊपर रहा। 

पर्यावरण पर काम करने वाली एजेसियों को पूर्वानुमान है कि रविवार को प्रदूषण स्तर में बड़े बदलाव की उम्मीद नहीं है। हवा की चाल बढ़ने पर सप्ताह के पहले कार्यदिवस सोमवार से गुणवत्ता में सुधार हो सकता है।

भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान (आईआईटीएम) के मुताबिक, शनिवार को पूरब से दिल्ली पहुंचने वाली हवाओं की चाल करीब 8 किमी प्रति घंटा रही। जबकि शुक्रवार का यह आंकड़ा 4 किमी प्रति घंटा के करीब था। वहीं, मिक्सिंग हाइट 1000 मीटर व वेंटिलेशन इंडेक्टस मानक 6000 की जगह 2500 वर्ग मीटर/सेंकेड रहा।

इससे प्रदूषक न तो आसमान की तरफ ऊपर जा सके और न ही धरती की सतह के साथ दूर-दूर तक फैल सके। इसका नतीजा हवाओं के गंभीर स्तर पर बने रहने के तौर पर रहा। सूचकांक 402 पर रिकॉर्ड किया गया। शुक्रवार को भी वायु गुणवत्ता सूचकांक 406 था। वहीं, फरीदाबाद का सूचकांक भी 416 रिकार्ड की गई।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, एनसीआर के दूसरे शहरों की हवा भी ज्यादा बेहतर नहीं रही। इन शहरों की हवाएं बेहद खराब के उच्चतम स्तर में रहीं। गाजियाबाद का सूचकांक 368 रिकॉर्ड किया गया। जबकि ग्रेटर नोएडा का 352 व गुरूग्राम का 362 पर रहा। नोएडा की हवा की गुणवत्ता का सूचकांक 381 रिकार्ड किया गया। आईआईटीएम का पूर्वानुमान है कि सोमवार से हवा की चाल तेज होने से प्रदूषण स्तर में गिरावट आने की उम्मीद है।

शनिवार को पराली के धुएं का हिस्सा भी रहा कम
उधर, सफर का कहना है कि शनिवार के प्रदूषण में पराली के धुएं का हिस्सा कम रहा। पड़ोसी राज्यों में करीब 150 मामले दर्ज किए गए। वहीं, हवाओं की दिशा पूर्वी होने से पराली के धुएं से निकले पीएम2.5 का हिस्सा 6 फीसदी रहा। इससे हालात बेकाबू नहीं हुए।

सोमवार से सुधरेगी दिल्ली-एनसीआर की हवाएं
आईआईटीएम के मुताबिक, रविवार को हवा की चाल 4 किमी प्रति घंटा होने के साथ इसकी दिशा उत्तर पश्चिमी हो जाएगी। वेंटिलेशन इंडेक्स व मिक्सिंग हाइट में भी कोई बदलाव नहीं आएगी। इससे हवा की गुणवत्ता बेहद खराब व गंभीर स्तर की सीमा पर रहेगी। सोमवार से हवा की चाल 10-12 किमी के बीच रहने का अनुमान है। इस दौरान आसमान में हल्के बादल छाए रहेंगे। इससे प्रदूषण स्तर में कमी दर्ज की जा सकती है।

विस्तार

दिल्ली-एनसीआर में सुधार के बाद भी हवाएं लगातार दूसरे दिन शनिवार को जहरीली बनी रहीं। हरियाणा के फरीदाबाद के साथ दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ऊपर रिकार्ड किया गया जबकि गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा व गुरूग्राम में यह आंकड़ा 350 से ऊपर रहा। 

पर्यावरण पर काम करने वाली एजेसियों को पूर्वानुमान है कि रविवार को प्रदूषण स्तर में बड़े बदलाव की उम्मीद नहीं है। हवा की चाल बढ़ने पर सप्ताह के पहले कार्यदिवस सोमवार से गुणवत्ता में सुधार हो सकता है।

भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान (आईआईटीएम) के मुताबिक, शनिवार को पूरब से दिल्ली पहुंचने वाली हवाओं की चाल करीब 8 किमी प्रति घंटा रही। जबकि शुक्रवार का यह आंकड़ा 4 किमी प्रति घंटा के करीब था। वहीं, मिक्सिंग हाइट 1000 मीटर व वेंटिलेशन इंडेक्टस मानक 6000 की जगह 2500 वर्ग मीटर/सेंकेड रहा।

इससे प्रदूषक न तो आसमान की तरफ ऊपर जा सके और न ही धरती की सतह के साथ दूर-दूर तक फैल सके। इसका नतीजा हवाओं के गंभीर स्तर पर बने रहने के तौर पर रहा। सूचकांक 402 पर रिकॉर्ड किया गया। शुक्रवार को भी वायु गुणवत्ता सूचकांक 406 था। वहीं, फरीदाबाद का सूचकांक भी 416 रिकार्ड की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews