Delhi Pollution Kejriwal Government Make 5 Point Agenda To Fight Pollution – दिल्ली: प्रदूषण से लड़ने के लिए पांच सूत्रीय एजेंडा तैयार, 11 नवंबर से एक महीने के लिए चलेगा विशेष अभियान


डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: पूजा त्रिपाठी
Updated Wed, 10 Nov 2021 12:24 AM IST

सार

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने मंगलवार को मीडिया को बताया कि दिल्ली सरकार लोगों को प्रदूषण से बचाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इसके अंतर्गत दिल्ली सरकार के सभी संबंधित 10 विभागों को मिलाकर विशेष टीमें  बनाई जा रही हैं।

ख़बर सुनें

दिल्ली में इस समय प्रदूषण गंभीर स्तर पर है। लोगों को सांस लेने में परेशानी महसूस हो रही है और आंखों में जलन की शिकायत हो रही है। इसी बीच दिल्ली सरकार ने राजधानी के लोगों को प्रदूषण से बचाने के लिए पांच सूत्रीय अभियान चलाने का निर्णय लिया है। सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस पर सख्ती से अमल किया जाएगा। 

इस अभियान के तहत 11 नवंबर से 11 दिसंबर तक एक महीने राजधानी में विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके अंतर्गत खुले में कूड़ा-कचरे को जलाने पर प्रतिबंध लागू रहेगा। इसके अलावा सार्वजनिक वाहनों के फेरे बढ़ाए जाएंगे। सड़कों पर पानी का छिड़काव कर धूल कम की जाएगी। विभिन्न विभागों की विशेष 550 टीमें बनाकर खुले में कचरे को जलाने की घटनाओं पर लगाम लगाने की कोशिश की जाएगी। धूल प्रदूषण पर नियंत्रण और सड़कों पर जल छिड़काव कराए जाएंगे। 

डीडीए पर जुर्माना
पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) पर कोंडली में कागज बाजार में सड़क निर्माण कचरे को डंप करके पर्यावरण मानदंडों का उल्लंघन करने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। 

10 विभागों को मिलाकर बनाई गई टीमें
पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने मंगलवार को मीडिया को बताया कि दिल्ली सरकार लोगों को प्रदूषण से बचाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इसके अंतर्गत दिल्ली सरकार के सभी संबंधित 10 विभागों को मिलाकर विशेष टीमें  बनाई जा रही हैं। इसके अंतर्गत पराली जलाने की घटनाओं को कम करने की कोशिश की जाएगी, खुले में कचरा जलाने पर रोक लगाने की कोशिश की जाएगी,  इसके अलावा सार्वजनिक वाहनों के फेरे बढ़ाकर निजी वाहनों का उपयोग कम कराने की कोशिश की जाएगी।

ग्रेप 2.0 के अगले दौर में खुले में जनरेटर चलाने, कोयले से चलने वाले केंद्रों पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। आरडब्ल्यूए को भी अपने कर्मचारियों को ठंड से बचाने के लिए उन्हें हीटर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए जाएंगे।

विस्तार

दिल्ली में इस समय प्रदूषण गंभीर स्तर पर है। लोगों को सांस लेने में परेशानी महसूस हो रही है और आंखों में जलन की शिकायत हो रही है। इसी बीच दिल्ली सरकार ने राजधानी के लोगों को प्रदूषण से बचाने के लिए पांच सूत्रीय अभियान चलाने का निर्णय लिया है। सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस पर सख्ती से अमल किया जाएगा। 

इस अभियान के तहत 11 नवंबर से 11 दिसंबर तक एक महीने राजधानी में विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके अंतर्गत खुले में कूड़ा-कचरे को जलाने पर प्रतिबंध लागू रहेगा। इसके अलावा सार्वजनिक वाहनों के फेरे बढ़ाए जाएंगे। सड़कों पर पानी का छिड़काव कर धूल कम की जाएगी। विभिन्न विभागों की विशेष 550 टीमें बनाकर खुले में कचरे को जलाने की घटनाओं पर लगाम लगाने की कोशिश की जाएगी। धूल प्रदूषण पर नियंत्रण और सड़कों पर जल छिड़काव कराए जाएंगे। 

डीडीए पर जुर्माना

पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) पर कोंडली में कागज बाजार में सड़क निर्माण कचरे को डंप करके पर्यावरण मानदंडों का उल्लंघन करने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। 

10 विभागों को मिलाकर बनाई गई टीमें

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने मंगलवार को मीडिया को बताया कि दिल्ली सरकार लोगों को प्रदूषण से बचाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इसके अंतर्गत दिल्ली सरकार के सभी संबंधित 10 विभागों को मिलाकर विशेष टीमें  बनाई जा रही हैं। इसके अंतर्गत पराली जलाने की घटनाओं को कम करने की कोशिश की जाएगी, खुले में कचरा जलाने पर रोक लगाने की कोशिश की जाएगी,  इसके अलावा सार्वजनिक वाहनों के फेरे बढ़ाकर निजी वाहनों का उपयोग कम कराने की कोशिश की जाएगी।

ग्रेप 2.0 के अगले दौर में खुले में जनरेटर चलाने, कोयले से चलने वाले केंद्रों पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। आरडब्ल्यूए को भी अपने कर्मचारियों को ठंड से बचाने के लिए उन्हें हीटर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *