Ex Pak Envoy Abdul Basit Said That Dubai Investment In Jammu Kashmir Is A Big Loss Of Pakistan Latest News Update – पाकिस्तान: पूर्व राजदूत बोले- कश्मीर में दुबई का निवेश करना इमरान सरकार की हार, भारत की बड़ी जीत


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद
Published by: अभिषेक दीक्षित
Updated Fri, 22 Oct 2021 11:09 PM IST

सार

जम्मू-कश्मीर का दुबई सरकार के साथ हुआ आर्थिक समझौता भारत की बहुत बड़ी जीत है। इससे भारत राजनीतिक और रणनीतिक तौर पर पाकिस्तान से काफी आगे निकल गया है। बासित ने इसे पाकिस्तान की इमरान खान सरकार की विदेश नीति के लिए बड़ा झटका करार दिया है।

ख़बर सुनें

भारत में पाकिस्तान के राजदूत रहे अब्दुल बासित ने भारत को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर का दुबई सरकार के साथ हुआ आर्थिक समझौता भारत की बहुत बड़ी जीत है। इससे भारत राजनीतिक और रणनीतिक तौर पर पाकिस्तान से काफी आगे निकल गया है। बासित ने इसे पाकिस्तान की इमरान खान सरकार की विदेश नीति के लिए बड़ा झटका करार दिया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, भारत में पाकिस्तान के पूर्व उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि जब भी पाकिस्तान और जम्मू-कश्मीर को बात हुई है या कोई इनसे संबंधित कोई भी मसला ओआईसी (इस्लामिक सहयोग संगठन) के सामने रखा गया है, तो उनके सदस्यों ने हमेशा पाकिस्तान की संवेदनाओं को ही सबसे आगे रखा है। हालांकि, मौजूदा दौर को देखते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान की विदेश नीति पूरी तरह से विफल साबित हुई है।

बासित ने कहा कि पाकिस्तान को लगता है कि कश्मीर मुद्दे पर वह अन्य मुस्लिम देशों और आईओसी से ऊपर है। पाकिस्तान अपनी बात को इन सभी तक पहुंचाने में नाकाम रहा। हालांकि, उन्होंने कश्मीर पर हमारी भावनाओं के खिलाफ कभी काम नहीं किया है। उन्होंने कहा कि समाधानखोजने के प्रयास होने चाहिए। लेकिन ऐसा भी नहीं हो सकता कि सब कुछ एकतरफा होता चला जाए और कश्मीर भारत को सौंप दी जाए। अब स्थिति यह है कि मुस्लिम राष्ट्र भारत के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर रहे हैं। 

विस्तार

भारत में पाकिस्तान के राजदूत रहे अब्दुल बासित ने भारत को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर का दुबई सरकार के साथ हुआ आर्थिक समझौता भारत की बहुत बड़ी जीत है। इससे भारत राजनीतिक और रणनीतिक तौर पर पाकिस्तान से काफी आगे निकल गया है। बासित ने इसे पाकिस्तान की इमरान खान सरकार की विदेश नीति के लिए बड़ा झटका करार दिया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, भारत में पाकिस्तान के पूर्व उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि जब भी पाकिस्तान और जम्मू-कश्मीर को बात हुई है या कोई इनसे संबंधित कोई भी मसला ओआईसी (इस्लामिक सहयोग संगठन) के सामने रखा गया है, तो उनके सदस्यों ने हमेशा पाकिस्तान की संवेदनाओं को ही सबसे आगे रखा है। हालांकि, मौजूदा दौर को देखते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान की विदेश नीति पूरी तरह से विफल साबित हुई है।

बासित ने कहा कि पाकिस्तान को लगता है कि कश्मीर मुद्दे पर वह अन्य मुस्लिम देशों और आईओसी से ऊपर है। पाकिस्तान अपनी बात को इन सभी तक पहुंचाने में नाकाम रहा। हालांकि, उन्होंने कश्मीर पर हमारी भावनाओं के खिलाफ कभी काम नहीं किया है। उन्होंने कहा कि समाधानखोजने के प्रयास होने चाहिए। लेकिन ऐसा भी नहीं हो सकता कि सब कुछ एकतरफा होता चला जाए और कश्मीर भारत को सौंप दी जाए। अब स्थिति यह है कि मुस्लिम राष्ट्र भारत के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *