Google Took Advantage Of Its Strong Position, Revealed In Cci Enquiry – Google: अपनी मजबूत स्थिति का गूगल ने उठाया गलत फायदा, सीसीआई की जांच में खुलासा 


दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल एक बार फिर गलत कारणों से चर्चा में है। गूगल बाजार में अपनी मजबूत स्थिति का लगातार दुरुपयोग कर रहा है। भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) की जांच में इसका खुलासा हुआ है। सीसीआई की जांच इकाई ने दो साल तक मामले की जांच के बाद अपनी रिपोर्ट दी है। इसमें कहा गया है कि अमेरिकी टेक्नोलॉजी और सर्च इंजन वाली यह कंपनी प्रतिस्पर्धा विरोधी, अनुचित और प्रतिबंधात्मक व्यापार तरीके अपनाने की दोषी है।

रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और इससे जुड़े बाजार में अपने दबदबे का अनुचित इस्तेमाल कर रही है। सीसीआई ने अप्रैल 2019 में गूगल के खिलाफ जांच का आदेश दिया था। मोबाइल फोन ऑपरेटिंग सिस्टम के बाजार में गूगल के एंड्रॉयड का एकाधिकार है। इस बाजार के करीब 98 फीसदी हिस्से पर इसका कब्जा है। कई विदेशी और देशी कंपनियां जैसे एपल, माइक्रोसॉफ्ट, एमेजन, पेटीएम, फोनपे, मोजिला, सैमसंग, शियोमी, वीवो, ओप्पो और कार्बन गूगल के ही प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं।

सीसीआई  की जांच में गूगल पर प्रतिस्पर्धा और नवोन्मेश  को चोट पहुंचाने का आरोप लगाया गया है। इसमें यह भी कहा गया है कि यह बाजार के साथ ही उपभोक्ताओं के लिए भी नुकसानदेह है। गूगल सर्च, म्यूजिक (यूट्यूब), ब्राउजर (क्रोम), एप लाइब्रेरी (गूगल प्ले स्टोर) और दूसरी प्रमुख सेवाओं में अपनी जबर्दस्त पकड़ बनाए रखने के लिए ऐसा करती है।

सीसीआई की जांच इकाई ने इस मामले में करीब 750 पेज की रिपोर्ट सौंपी है। बताया जा रहा है कि इस जांच में गूगल पर मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनियों के साथ ही एप तैयार करने वाली कंपनियों को एकतरफा कॉन्ट्रैक्ट के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया गया है।

इस रिपोर्ट में गूगल को सेक्शन 4(2)(ए)(आई), सेक्शन 4(2)(सी), सेक्शन 4(2)(डी) और सेक्शन 4(2)(ई) के प्रावधानों के उल्लंघन का दोषी पाया गया है। यह रिपोर्ट विचार के लिए सीसीआई को भेज दी गई है। अगर सीसीआई गूगल को दोषी पाती है तो उस पर जुर्माना लगाया जा सकता है।  

बता दें कि गूगल पिछले कुछ सालों से लगातार विवाद में बना हुआ है। इसकी आक्रामक मार्केटिंग नीति ने इसे मुश्किल में डाला है। कई देशोंं ने गूगल पर जुर्माना भी लगाया है। 

ऐसे ही एक मामले में दक्षिण कोरिया का प्रतिस्पर्धा नियामक गूगल पर कम से कम 207.4 अरब वॉन (17.7 करोड़ डॉलर) का जुर्माना लगाने की तैयारी कर रही है। गूगल पर यह जुर्माना सैमसंग जैसी स्मार्टफोन कंपनियों को अन्य के ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने से रोकने के लिए लगाया जा रहा है। यह देश में सबसे ऊंचा प्रतिस्पर्धा रोधी जुर्माना होगा।

हालांकि गूगल ने कहा कि वह इस जुर्माने को चुनौती देगी। गूगल का आरोप है कि दक्षिण कोरिया ने इस बात को नजरअंदाज किया है कि कैसे उसकी सॉफ्टवेयर नीति हार्डवेयर भागीदारों और उपभोक्ताओं को फायदा पहुंचा रही है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *