Israel Has Completely Closed Its Borders After The New Corona omicron Variant – ओमिक्रॉन वैरिएंट: इस्राइल ने सील की अपनी सीमाएं, किसी भी देश के यात्री को नहीं मिलेगा प्रवेश  


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, येरूसलम
Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव
Updated Sun, 28 Nov 2021 12:37 PM IST

सार

इस्राइल ने अपने देश की सीमाओं को चारों तरफ से सील कर दिया है। वह पहला देश बन गया है, जिसने ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने आने के बाद यह फैसला लिया है। 
 

ख़बर सुनें

कोरोना के नए स्वरूप ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने आने के बाद इस्राइल ने अपनी सीमाओं को पूरी तरह से बंद कर लिया है। अब देश में किसी भी विदेशी नागरिक को प्रवेश नहीं मिल सकेगा। इसके बाद इस्राइल ऐसा पहला देश बन गया है, जिसने कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने अपने के बाद यह कदम उठाया है। इस्राइल का कहना है कि वह ओमिक्रॉन वैरिएंट के संक्रमण को रोकने के लिए आतंकी विरोधी फोन ट्रैकिंग तकनीकी का प्रयोग करेगा। 

इस्राइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने एक बयान में बताया कि देश में विदेशी यात्रियों के आने पर 14 दिन तक प्रतिबंध जारी रहेगा। इस अवधि में वैज्ञानिक कोरोना के नए स्वरूप और इसमें होने वाले म्यूटेशन का अध्ययन करेंगे। उम्मीद है कि चीजें और साफ हो जाएंगी और इसके संभावित खतरे के बारे में पता चल सकेगा और साथ ही यह पता चल सकेगा कि कोरोना वैक्सीन इस नए वैरिएंट पर कितनी असरदार है। उन्होंने बताया कि 14 दिनों का प्रतिबंध रविवार रात से लागू हो जाएगा। 

इस्राइल समेत 10 देशों में सामने आ चुका है संक्रमण 
ओमिक्रॉन वैरिएंट दक्षिण अफ्रीका से शुरू होकर दस देशों में फैल चुका है। इस वायरस से संक्रमित होने वाले देशों में इस्राइल भी शामिल है, यही कारण है कि देश ने अपनी सीमाओं को विदेशी यात्रियों के लिए बंद कर दिया है। अभी तक यह वायरस बोत्सवाना, हांगकांग, बेल्जियम, दक्षिण अफ्रीका व इस्राइल समेत दस देशों में सामने आ चुका है। 
 

विस्तार

कोरोना के नए स्वरूप ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने आने के बाद इस्राइल ने अपनी सीमाओं को पूरी तरह से बंद कर लिया है। अब देश में किसी भी विदेशी नागरिक को प्रवेश नहीं मिल सकेगा। इसके बाद इस्राइल ऐसा पहला देश बन गया है, जिसने कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने अपने के बाद यह कदम उठाया है। इस्राइल का कहना है कि वह ओमिक्रॉन वैरिएंट के संक्रमण को रोकने के लिए आतंकी विरोधी फोन ट्रैकिंग तकनीकी का प्रयोग करेगा। 

इस्राइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने एक बयान में बताया कि देश में विदेशी यात्रियों के आने पर 14 दिन तक प्रतिबंध जारी रहेगा। इस अवधि में वैज्ञानिक कोरोना के नए स्वरूप और इसमें होने वाले म्यूटेशन का अध्ययन करेंगे। उम्मीद है कि चीजें और साफ हो जाएंगी और इसके संभावित खतरे के बारे में पता चल सकेगा और साथ ही यह पता चल सकेगा कि कोरोना वैक्सीन इस नए वैरिएंट पर कितनी असरदार है। उन्होंने बताया कि 14 दिनों का प्रतिबंध रविवार रात से लागू हो जाएगा। 

इस्राइल समेत 10 देशों में सामने आ चुका है संक्रमण 

ओमिक्रॉन वैरिएंट दक्षिण अफ्रीका से शुरू होकर दस देशों में फैल चुका है। इस वायरस से संक्रमित होने वाले देशों में इस्राइल भी शामिल है, यही कारण है कि देश ने अपनी सीमाओं को विदेशी यात्रियों के लिए बंद कर दिया है। अभी तक यह वायरस बोत्सवाना, हांगकांग, बेल्जियम, दक्षिण अफ्रीका व इस्राइल समेत दस देशों में सामने आ चुका है। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *