Meghalaya Governor Satyapal Malik Slammed His Critics Asking For His Resignation News In Hindi – सत्यपाल मलिक बोले: जिन्होंने राज्यपाल बनाया वह आपत्ति जताएंगे तो एक मिनट में दे दूंगा इस्तीफा


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: गौरव पाण्डेय
Updated Sun, 07 Nov 2021 06:15 PM IST

सार

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बीते दिनों जम्मू-कश्मीर और गोवा में भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। इसके बाद विपक्षी नेताओं और आलोचकों ने सवाल उठाए थे कि अगर आपको इतनी समस्या है तो इस्तीफा क्यों नहीं दे देते। मलिक ने रविवार को इसी सवाल का जवाब अपने विरोधियों पर तंज कसते हुए दिया। 

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक
– फोटो : पीटीआई (फाइल)

ख़बर सुनें

बीते दिनों गोवा में भाजपा सरकार पर कोरोना वायरस महामारी के दौरान भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को अपने आलोचकों को निशाने पर लिया। सत्यपाल मलिक ने एक कार्यक्रम में कहा कि मैं किसानों के मुद्दे पर कुछ कहूंगा तो विवाद बन जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्यपाल को हटाया नहीं जा सकता लेकिन मेरे कुछ शुभचिंतक चाहते हैं कि मैं कुछ कहूं और हटूं। 

मलिक ने आगे कहा, ‘कुछ लोग फेसबुक पर लिख देते हैं कि राज्यपाल साहब अगर इतना महसूस कर रहे हो तो इस्तीफा क्यों नहीं दे देते… मुझे आपके पिताजी ने राज्यपाल नहीं बनाया था और न मैं वोट से बना था। मुझे दिल्ली में दो-तीन बड़े लोगों ने राज्यपाल बनाया था और मैं उनकी ही इच्छा के विरुद्ध बोल रहा हूं। जब वो मुझसे कह देंगे कि हमें दिक्कत है छोड़ दो, तब मैं (इस्तीफा देने में) एक मिनट भी नहीं लगाऊंगा।’

गोवा में भ्रष्टाचार को लेकर कही थी ये बात
मलिक ने जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार के बाद गोवा में भी व्यापक भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा था कि गोवा में भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त रुख के कारण ही मेरा तबादला मेघालय किया गया था। सत्यपाल मलिक ने इस मामले में प्रधानमंत्री से दखल देने की मांग की थी। एक न्यूज चैनल को दिए साक्षात्कार में मलिक ने कहा था कि गोवा से उनकी विदाई की पटकथा भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम के कारण ही लिखी गई थी।

किसानों के आंदोलन का कर चुके हैं समर्थन
अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले मलिक ने पहले भी इसे लेकर कहा था कि मैंने कुछ गलत नहीं किया है इसीलिए बिना डर के बोलता हूं। इससे पहले वह केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों का समर्थन भी कर चुके हैं। सत्यपाल मलिक यह भी कहा था कि अगर किसानों का प्रदर्शन जारी रहा तो मैं अपने पद से इस्तीफा देकर उनके साथ खड़े होने के लिए भी तैयार हूं।

विस्तार

बीते दिनों गोवा में भाजपा सरकार पर कोरोना वायरस महामारी के दौरान भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को अपने आलोचकों को निशाने पर लिया। सत्यपाल मलिक ने एक कार्यक्रम में कहा कि मैं किसानों के मुद्दे पर कुछ कहूंगा तो विवाद बन जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्यपाल को हटाया नहीं जा सकता लेकिन मेरे कुछ शुभचिंतक चाहते हैं कि मैं कुछ कहूं और हटूं। 

मलिक ने आगे कहा, ‘कुछ लोग फेसबुक पर लिख देते हैं कि राज्यपाल साहब अगर इतना महसूस कर रहे हो तो इस्तीफा क्यों नहीं दे देते… मुझे आपके पिताजी ने राज्यपाल नहीं बनाया था और न मैं वोट से बना था। मुझे दिल्ली में दो-तीन बड़े लोगों ने राज्यपाल बनाया था और मैं उनकी ही इच्छा के विरुद्ध बोल रहा हूं। जब वो मुझसे कह देंगे कि हमें दिक्कत है छोड़ दो, तब मैं (इस्तीफा देने में) एक मिनट भी नहीं लगाऊंगा।’

गोवा में भ्रष्टाचार को लेकर कही थी ये बात

मलिक ने जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार के बाद गोवा में भी व्यापक भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा था कि गोवा में भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त रुख के कारण ही मेरा तबादला मेघालय किया गया था। सत्यपाल मलिक ने इस मामले में प्रधानमंत्री से दखल देने की मांग की थी। एक न्यूज चैनल को दिए साक्षात्कार में मलिक ने कहा था कि गोवा से उनकी विदाई की पटकथा भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम के कारण ही लिखी गई थी।

किसानों के आंदोलन का कर चुके हैं समर्थन

अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले मलिक ने पहले भी इसे लेकर कहा था कि मैंने कुछ गलत नहीं किया है इसीलिए बिना डर के बोलता हूं। इससे पहले वह केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों का समर्थन भी कर चुके हैं। सत्यपाल मलिक यह भी कहा था कि अगर किसानों का प्रदर्शन जारी रहा तो मैं अपने पद से इस्तीफा देकर उनके साथ खड़े होने के लिए भी तैयार हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *