Ncw Chairperson Rekha Sharma Seeks Resignation Of Newly-appointed Punjab Cm Over Metoo Allegations – मीटू पर घेरा: महिला आयोग ने पंजाब के नए सीएम से मांगा इस्तीफा, सोनिया गांधी से की हटाने की मांग


पीटीआई, नई दिल्ली
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Mon, 20 Sep 2021 05:06 PM IST

सार

#MeToo allegations: 2018 में देश में चले मीटू आंदोलन के दौरान पंजाब के नए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी का भी नाम आने को लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उनका इस्तीफा मांगा है।

राष्ट्रीय महिला आयोग के चेयरपर्सन रेखा शर्मा
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

पंजाब के सीएम बनते की चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ ‘मीटू’ का जिन्न निकल आया है। रविवार को उनके नेता निर्वाचित होते ही भाजपा ने उन्हें इस मामले में घेरा था। सोमवार को अब राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस मामले को उठाते हुए चन्नी के इस्तीफे की मांग की।
राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने बताया कि 2018 में मीटू मूवमेंट के दौरान चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ आरोप लगाए गए थे। राज्य महिला आयोग ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया था और उन्हें हटाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ। आज उन्हें एक महिला के नेतृत्व वाली पार्टी ने पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है। यह विश्वासघात है। आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने कहा, ‘चन्नी महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं। उनके खिलाफ जांच होनी चाहिए। वह मुख्यमंत्री बनने के लायक नहीं है। मैं सोनिया गांधी से उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाने का आग्रह करती हूं।’
रेखा शर्मा ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि यह शर्मनाक है कि मीटू के आरोपी को पंजाब का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया है।
एनसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा कि हम नहीं चाहते हैं कि ऐसा व्यक्ति पंजाब का सीएम रहे और उसके कारण किसी अन्य महिला को उन्हीं अनुभवों व प्रताड़ना से गुजरना पड़े, जैसी कि महिला आईएएस ने झेली थी। चन्नी को जिम्मेदारी समझते हुए सीएम पद से इस्तीफा देना चाहिए।

विस्तार

पंजाब के सीएम बनते की चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ ‘मीटू’ का जिन्न निकल आया है। रविवार को उनके नेता निर्वाचित होते ही भाजपा ने उन्हें इस मामले में घेरा था। सोमवार को अब राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस मामले को उठाते हुए चन्नी के इस्तीफे की मांग की।

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने बताया कि 2018 में मीटू मूवमेंट के दौरान चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ आरोप लगाए गए थे। राज्य महिला आयोग ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया था और उन्हें हटाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ। आज उन्हें एक महिला के नेतृत्व वाली पार्टी ने पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है। यह विश्वासघात है। आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने कहा, ‘चन्नी महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं। उनके खिलाफ जांच होनी चाहिए। वह मुख्यमंत्री बनने के लायक नहीं है। मैं सोनिया गांधी से उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाने का आग्रह करती हूं।’

रेखा शर्मा ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि यह शर्मनाक है कि मीटू के आरोपी को पंजाब का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया है।

एनसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा कि हम नहीं चाहते हैं कि ऐसा व्यक्ति पंजाब का सीएम रहे और उसके कारण किसी अन्य महिला को उन्हीं अनुभवों व प्रताड़ना से गुजरना पड़े, जैसी कि महिला आईएएस ने झेली थी। चन्नी को जिम्मेदारी समझते हुए सीएम पद से इस्तीफा देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *