Shanghai Cooperation Organisation Adopts Dushanbe Decleration After Summit In Tajikistan Afghanistan And Terrorism Main Points – एससीओ सम्मेलन: दुशांबे घोषणापत्र को स्वीकृति, अफगानिस्तान में आतंक रोकने और समावेशी सरकार बनाने का आह्वान


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, दुशांबे
Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र
Updated Fri, 17 Sep 2021 07:09 PM IST

सार

एससीओ ने दुशांबे घोषणापत्र में सभी तरह के आतंकवाद की निंदा की। सदस्य देशों ने आतंकवाद और इसकी समर्थक ताकतों को रोकने के लिए साझा प्रयास करने की बात कही। 

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से ही अफरा-तफरी का माहौल।
– फोटो : PTI

ख़बर सुनें

विस्तार

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में दुशांबे डेक्लेरेशन को स्वीकृति दी गई। इसके मुताबिक, एससीओ के सदस्यों ने अफगानिस्तान के स्वतंत्र, निष्पक्ष, संगठित, लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण देश के तौर पर रहने का समर्थन किया। साथ ही अफगानिस्तान को आतंकवाद, युद्ध और नशीले पदार्थों से मुक्त रखने का भी आह्वान किया है। 

घोषणापत्र में एससीओ के सदस्यों ने इस बात की तस्दीक की कि अफगानिस्तान में समावेशी सरकार का रहना अहम है, जिसमें अफगान समाज के सभी समुदाय, धर्मों और राजनीतिक समूहों का प्रतिनिधित्व हो। 

इसी के साथ एससीओ ने दुशांबे घोषणापत्र में सभी तरह के आतंकवाद की निंदा की। सदस्य देशों ने आतंकवाद और इसकी समर्थक ताकतों को रोकने के लिए साझा प्रयास करने की बात कही। साथ ही वैश्विक मानकों को स्थापित कर मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए हो रही आतंकियों की वित्तीय मदद को रोकने का भरोसा जताया। 

एससीओ के सदस्य देशों ने वादा किया कि वे आतंकवादी गतिविधियों की तैयारी और वित्तीय मदद रोकने के लिए उठाए जा रहे कदमों को और सख्त करेंगे और आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह भी नहीं मुहैया होने देंगे। इसके अलावा वे आतंकवाद, कट्टरपंथ और अलगाववाद में शामिल लोगों और संगठनों को रोकने के लिए भी सहयोग बढ़ाएंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *