Supreme Court Collegium Approves Appointment Of Chief Justices Of Eight High Courts For The First Time – ऐतिहासिक: कॉलेजियम ने आठ हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस की नियुक्ति को पहली बार दी मंजूरी, कई जजों के तबादले की भी स्वीकृति


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव
Updated Fri, 17 Sep 2021 03:53 PM IST

सार

चीफ जस्टिस एनवी रमण की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने चार सितंबर को एक अभूतपूर्व फैसला लेते हुए एक साथ 68 नामों की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजी थी। 
 

ख़बर सुनें

सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम ने देश में एक साथ आठ हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। ऐसा पहली बार है जब कॉलेजियम ने एक साथ इतने चीफ जस्टिस की नियुक्ति को मंजूरी दी हो। इसके अलावा कॉलेजियम ने करीब दो दर्जन हाईकोर्ट के जजों के तबादले को भी अपनी मंजूरी दे दी है। 

चीफ जस्टिस एन वी रमन की अध्यक्षता वाले तीन जजों के कॉलेजियम ने ये फैसला लिया। इसके साथ ही विभिन्न हाईकोर्ट के चार मुख्य न्यायधीशों का भी तबादला किया। इस कॉलेजियम में चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस यू यू ललित और ए एम खानविलकर भी हैं। 

जजों की नियुक्ति और तबादले का फैसला एक मैराथन मीटिंग के बाद लिया गया। इस संबंध में बैठक गुरुवार और आज हुई।

जजों की कमी से जूझ रहे हाईकोर्ट 
बता दें, देश के कई हाईकोर्ट जजों की कमी से जूझ रहे हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट में स्वीकृत 160 जजों के मुकाबले अभी केवल 93 जजों से काम चल रहा है। देशभर के हाईकोर्ट में जजों के रिक्त पद भरने के लिए सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने केंद्र सरकार को इलाहाबाद के 16 सहित 12 हाईकोर्ट के लिए 68 जजों को नियुक्त करने के लिए नाम भेजे थे। इससे इलाहाबाद, राजस्थान और कोलकता समेत इन सभी 12 हाईकोर्ट में रिक्त पदों के कारण बड़ी संख्या में लंबित हो रहे मुकदमों की परेशानी दूर हो पाएगी।

सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों को दिलाई थी शपथ
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में भी एक साथ नौ जजों की नियुक्ति की गई थी। यह पहला मौका था जब एक साथ इतनी बड़ी नियुक्ति के बाद शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन हुआ था। नौ नए न्यायाीधीशों में तीन महिला न्यायाधीश शामिल थीं। बता दें, शीर्ष अदालत में सीजेआई रमण समेत जजों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है, जबकि स्वीकृत संख्या 34 है।

विस्तार

सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम ने देश में एक साथ आठ हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। ऐसा पहली बार है जब कॉलेजियम ने एक साथ इतने चीफ जस्टिस की नियुक्ति को मंजूरी दी हो। इसके अलावा कॉलेजियम ने करीब दो दर्जन हाईकोर्ट के जजों के तबादले को भी अपनी मंजूरी दे दी है। 

चीफ जस्टिस एन वी रमन की अध्यक्षता वाले तीन जजों के कॉलेजियम ने ये फैसला लिया। इसके साथ ही विभिन्न हाईकोर्ट के चार मुख्य न्यायधीशों का भी तबादला किया। इस कॉलेजियम में चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस यू यू ललित और ए एम खानविलकर भी हैं। 

जजों की नियुक्ति और तबादले का फैसला एक मैराथन मीटिंग के बाद लिया गया। इस संबंध में बैठक गुरुवार और आज हुई।

जजों की कमी से जूझ रहे हाईकोर्ट 

बता दें, देश के कई हाईकोर्ट जजों की कमी से जूझ रहे हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट में स्वीकृत 160 जजों के मुकाबले अभी केवल 93 जजों से काम चल रहा है। देशभर के हाईकोर्ट में जजों के रिक्त पद भरने के लिए सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने केंद्र सरकार को इलाहाबाद के 16 सहित 12 हाईकोर्ट के लिए 68 जजों को नियुक्त करने के लिए नाम भेजे थे। इससे इलाहाबाद, राजस्थान और कोलकता समेत इन सभी 12 हाईकोर्ट में रिक्त पदों के कारण बड़ी संख्या में लंबित हो रहे मुकदमों की परेशानी दूर हो पाएगी।

सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों को दिलाई थी शपथ

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में भी एक साथ नौ जजों की नियुक्ति की गई थी। यह पहला मौका था जब एक साथ इतनी बड़ी नियुक्ति के बाद शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन हुआ था। नौ नए न्यायाीधीशों में तीन महिला न्यायाधीश शामिल थीं। बता दें, शीर्ष अदालत में सीजेआई रमण समेत जजों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है, जबकि स्वीकृत संख्या 34 है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *