Three Women Farmers Of Punjab Died In An Accident In Bahadurgarh – बहादुरगढ़ में बड़ा हादसा: किसान आंदोलन में शामिल पंजाब की तीन महिला प्रदर्शकारियों को डंपर ने कुचला, मौत


संवाद न्यूज एजेंसी, बहादुरगढ़
Published by: प्रमोद कुमार
Updated Thu, 28 Oct 2021 10:43 AM IST

सार

बहादुरगढ़ में एक बार फिर बड़ा हादसा हुआ है। इसमें तीन महिला किसानों की मौत हो गई और दो अभी गंभीर रूप से घायल हुई हैं। जिनका इलाज चल रहा है। इससे कुछ दिन पहले भी एक ही परिवार के आठ लोगों की मौत बहादुरगढ़ में हुई थी। यह परिवार राजस्थान के गोगा मेड़ी से लौट रहा था। महिलाओं की मौत के बाद पुलिस जांच में जुटी है।

इसी डंपर ने महिलाओं को कुचला।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों के टीकरी बॉर्डर पड़ाव में झज्जर-बहादुरगढ़ रोड पर बाईपास के फ्लाईओवर के नीचे पंजाब की निवासी तीन किसान आंदोलनकारी महिलाओं की डंपर से कुचले जाने से मौत हो गई। हादसे में दो महिलाएं घायल हुई हैं। सभी महिलाएं मानसा की निवासी थीं। गुरुवार सुबह करीब 6.15 बजे यहां कुछ महिलाएं और पुरुष स्थानीय रेलवे स्टेशन जाने के लिए ऑटो रिक्शा का इंतजार कर रहे थे। उन्हें पंजाब जाना था। महिलाएं डिवाइडर पर बैठी थीं कि तेज गति से आए डंपर ने उन्हें रौंद दिया। घटना के बाद मौके पर जांच के लिए झज्जर के एसपी वसीम अकरम पहुंचे और किसानों से मामले को लेकर बात की।


हादसे के बाद मौके पर जमा हुए पंजाब के किसान।

ये भी पढ़ें-Petrol Diesel Price: हरियाणा में 105.25 रुपये प्रति लीटर हुआ पेट्रोल का भाव, 97.22 रुपये बिक रहा डीजल

दो महिलाओं की हालत गंभीर
इनमें से तीन की मौके पर ही मौत हो गई और दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हैं। एक के पांव की हड्डी टूट गई है। हादसे की सूचना मिलने पर पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और घायलों को नागरिक अस्पताल पहुंचाया। शवों को अपने कब्जे में लेकर प्राथमिक जांच कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल के शव गृह पहुंचाया गया है। घटना के बाद चालक डंपर को छोड़कर फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।


घटनास्थल पर जांच के लिए पहुंचे झज्जर के एसपी वसीम अकरम।

ये भी पढ़ें-हरियाणा महिला आयोग की सिफारिश: गुरुग्राम के सामूहिक दुष्कर्म मामले में एसआईटी गठित करें डीजीपी

मानसा के गांव खीवा दयालुवाला की रहने वाली थीं तीनों
मृतक आंदोलनकारी किसान महिलाओं में छिंदर कौर पत्नी भान सिंह उम्र 60 साल, अमरजीत कौर पत्नी हरजीत सिंह उम्र 58 वर्ष, गुरमेल कौर पत्नी भोला सिंह उम्र करीब 60 वर्ष शामिल हैं। पंजाब के जिला मानसा के गांव खीवा दयालुवाला की निवासी ये महिलाएं झज्जर रोड फ्लाईओवर के निकट बाईपास पर रह रही थीं। निर्धारित अवधि तक यहां किसान आंदोलन में रहकर अपनी बारी खत्म होने के बाद पंजाब जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रही थी। डिवाइडर पर बैठी थी कि झज्जर की तरफ से आ रहे डंपर नंबर एचआर-55  N-2287 ने टक्कर मार दी, जिसमें उक्त तीनों की मृत्यु हो गई।

ये भी पढ़ें-ऐलनाबाद उपचुनाव: दुष्यंत चौटाला बोले– चाचा जुबान के धनी नहीं, बयान के धनी हैं, सीएम ने भी साधा अभय पर निशाना

दो महिलाएं पीजीआई रेफर
गुरमेल कौर पत्नी मेहर सिंह उम्र करीब 60 वर्ष और हरमीत कौर हादसे में घायल हो गई हैं। उन्हें बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल से पीजीआई रोहतक रेफर किया गया है। पुलिस इस मामले की छानबीन में जुटी है।

विस्तार

तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों के टीकरी बॉर्डर पड़ाव में झज्जर-बहादुरगढ़ रोड पर बाईपास के फ्लाईओवर के नीचे पंजाब की निवासी तीन किसान आंदोलनकारी महिलाओं की डंपर से कुचले जाने से मौत हो गई। हादसे में दो महिलाएं घायल हुई हैं। सभी महिलाएं मानसा की निवासी थीं। गुरुवार सुबह करीब 6.15 बजे यहां कुछ महिलाएं और पुरुष स्थानीय रेलवे स्टेशन जाने के लिए ऑटो रिक्शा का इंतजार कर रहे थे। उन्हें पंजाब जाना था। महिलाएं डिवाइडर पर बैठी थीं कि तेज गति से आए डंपर ने उन्हें रौंद दिया। घटना के बाद मौके पर जांच के लिए झज्जर के एसपी वसीम अकरम पहुंचे और किसानों से मामले को लेकर बात की।

हादसे के बाद मौके पर जमा हुए पंजाब के किसान।

ये भी पढ़ें-Petrol Diesel Price: हरियाणा में 105.25 रुपये प्रति लीटर हुआ पेट्रोल का भाव, 97.22 रुपये बिक रहा डीजल

दो महिलाओं की हालत गंभीर

इनमें से तीन की मौके पर ही मौत हो गई और दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हैं। एक के पांव की हड्डी टूट गई है। हादसे की सूचना मिलने पर पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और घायलों को नागरिक अस्पताल पहुंचाया। शवों को अपने कब्जे में लेकर प्राथमिक जांच कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल के शव गृह पहुंचाया गया है। घटना के बाद चालक डंपर को छोड़कर फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।



घटनास्थल पर जांच के लिए पहुंचे झज्जर के एसपी वसीम अकरम।

ये भी पढ़ें-हरियाणा महिला आयोग की सिफारिश: गुरुग्राम के सामूहिक दुष्कर्म मामले में एसआईटी गठित करें डीजीपी

मानसा के गांव खीवा दयालुवाला की रहने वाली थीं तीनों

मृतक आंदोलनकारी किसान महिलाओं में छिंदर कौर पत्नी भान सिंह उम्र 60 साल, अमरजीत कौर पत्नी हरजीत सिंह उम्र 58 वर्ष, गुरमेल कौर पत्नी भोला सिंह उम्र करीब 60 वर्ष शामिल हैं। पंजाब के जिला मानसा के गांव खीवा दयालुवाला की निवासी ये महिलाएं झज्जर रोड फ्लाईओवर के निकट बाईपास पर रह रही थीं। निर्धारित अवधि तक यहां किसान आंदोलन में रहकर अपनी बारी खत्म होने के बाद पंजाब जाने के लिए ऑटो का इंतजार कर रही थी। डिवाइडर पर बैठी थी कि झज्जर की तरफ से आ रहे डंपर नंबर एचआर-55  N-2287 ने टक्कर मार दी, जिसमें उक्त तीनों की मृत्यु हो गई।

ये भी पढ़ें-ऐलनाबाद उपचुनाव: दुष्यंत चौटाला बोले– चाचा जुबान के धनी नहीं, बयान के धनी हैं, सीएम ने भी साधा अभय पर निशाना

दो महिलाएं पीजीआई रेफर

गुरमेल कौर पत्नी मेहर सिंह उम्र करीब 60 वर्ष और हरमीत कौर हादसे में घायल हो गई हैं। उन्हें बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल से पीजीआई रोहतक रेफर किया गया है। पुलिस इस मामले की छानबीन में जुटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *