Uddhavs Attack On Bjp In Dussehra Rally: Savarkar Controversy, Surrounded On All Issues Including Drugs Case, Said- Deliberately Defaming Celebrities – ठाकरे की दशहरा रैली: भाजपा, भागवत, केंद्र व एनसीबी पर साधा निशाना, जानबूझकर हस्तियों को निशाना बनाने का आरोप


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Fri, 15 Oct 2021 08:51 PM IST

सार

शिवसेना प्रमुख व महाराष्ट्र के सीएम ठाकरे ने दशहरा रैली में खूब हुंकार भरी। उन्होंने एनसीबी, ईडी व सीबीआई के छापों को लेकर कहा कि हम इनसे डरने वाले नहीं हैं। भाजपा को चुनौती दी कि वह हमारी सरकार गिराकर दिखाए।

दशहरा रैली को संबोधित करते सीएम उद्धव ठाकरे
– फोटो : ani

ख़बर सुनें

महाराष्ट्र के सीएम व शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने दशहरा रैली में भाजपा और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने वीर सावरकर विवाद, ड्रग्स केस, भ्रष्टाचार के आरोप समेत तमाम मुद्दों पर भाजपा को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को ड्रग्स के जरिए बदनाम करने की कोशिश हो रही है। आर्यन खान ड्रग्स केस का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा कि जानबूझकर हस्तियों को बदनाम करने के लिए निशाना बनाया जा रहा है।

न सावरकर को समझे, न महात्मा गांधी को
मुंबई के षणमुखांनद हॉल में शिवसेना की सालाना दशहरा रैली में ठाकरे ने सावरकर विवाद को लेकर कहा कि भाजपा न तो वीर सावरकर को और न ही महात्मा गांधी को समझ सकी। हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि गांधीजी ने सावरकर को सलाह दी थी कि वे अंग्रेज सरकार के समक्ष दया याचिका दायर करें। उनके इस बयान से देश में सियासी बहस छिड़ गई है। गठबंधन खत्म होने के बाद भाजपा द्वारा शिवसेना को भ्रष्ट करने पर भी महाराष्ट्र के सीएम ने कड़ी आलोचना की। देगलुर उपचुनाव के लिए पूर्व शिवसेना नेता को भाजपा प्रत्याशी बनाने पर ठाकरे ने कहा कि विश्व की सबसे बड़ी पार्टी की हालत यह है कि उसे उपचुनाव के लिए भी प्रत्याशी आयात करना पड़ता है।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से कहा- हिंदुत्व का मतलब राष्ट्रप्रेम
ठाकरे ने ‘हिंदुत्व’ को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘आज हमारी व आरएसएस की रैली होती है। आरएसएस की रैली में हिंदुत्व की बात हुई। मैं मोहन जी (मोहन भागवत) को कहता हूं कि माफ कीजिए, आज मैं आप पर टीका नहीं कर रहा। हिंदुत्व का मतलब राष्ट्र प्रेम है। बालासाहेब ने कहा था कि पहले हम देशवासी हैं, उसके बाद धर्म आता है। धर्म घर पर रख हम जब बाहर निकलते हैं, तब देश हमारा धर्म होता है। हमारे रास्ते अलग हो सकते हैं लेकिन विचारधारा हिंदुत्व की एक जैसी है। इसीलिए हम भाजपा के साथ गए थे, लेकिन उन्होंने वादा पूरा नहीं किया, अन्यथा हम साथ ही रहते। मैं इसलिए सीएम बना, क्योंकि मैंने मेरे पिता से वादा  किया था कि एक दिन शिवसैनिक भी सीएम बनेगा।’

उद्धव की चुनौती- हिम्मत हो तो सरकार को गिराकर दिखाओ
महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, ‘मोहन जी ने आज कहा कि जो लड़ाई है वो विचार से होना चाहिए, युद्ध नहीं। यह आपको उनको भी बतानी चाहिए, जो सत्ता में रहने के लिए कुछ भी कर रहे हैं। नशा की बात की गई, नशा पर कार्रवाई उठाई जानी चाहिए, लेकिन जो सत्ता का नशा कर रहे हैं, उनका क्या, कुछ भी कर सत्ता में रहना है। अगले महीने हमारी सरकार को दो साल हो जाएंगे, अब भी कहता हूं, हिम्मत हो तो इस सरकार को गिराकर दिखाओ?’
हमें ईडी, सीबीआई का डर नहीं
उन्होंने कहा कि शिवाजी महाराज व शिवसेना संस्थापक (बाला साहब ठाकरे) ने हमें यही सिखाया है कि हमें किसी से नहीं डरना चाहिए। हमें ईडी व सीबीआई का डर नहीं है। हम उन लोगों में से नहीं हैं जो धमकी देकर पुलिस के पीछे छिप जाएं।

विस्तार

महाराष्ट्र के सीएम व शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने दशहरा रैली में भाजपा और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने वीर सावरकर विवाद, ड्रग्स केस, भ्रष्टाचार के आरोप समेत तमाम मुद्दों पर भाजपा को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को ड्रग्स के जरिए बदनाम करने की कोशिश हो रही है। आर्यन खान ड्रग्स केस का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा कि जानबूझकर हस्तियों को बदनाम करने के लिए निशाना बनाया जा रहा है।

न सावरकर को समझे, न महात्मा गांधी को

मुंबई के षणमुखांनद हॉल में शिवसेना की सालाना दशहरा रैली में ठाकरे ने सावरकर विवाद को लेकर कहा कि भाजपा न तो वीर सावरकर को और न ही महात्मा गांधी को समझ सकी। हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि गांधीजी ने सावरकर को सलाह दी थी कि वे अंग्रेज सरकार के समक्ष दया याचिका दायर करें। उनके इस बयान से देश में सियासी बहस छिड़ गई है। गठबंधन खत्म होने के बाद भाजपा द्वारा शिवसेना को भ्रष्ट करने पर भी महाराष्ट्र के सीएम ने कड़ी आलोचना की। देगलुर उपचुनाव के लिए पूर्व शिवसेना नेता को भाजपा प्रत्याशी बनाने पर ठाकरे ने कहा कि विश्व की सबसे बड़ी पार्टी की हालत यह है कि उसे उपचुनाव के लिए भी प्रत्याशी आयात करना पड़ता है।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से कहा- हिंदुत्व का मतलब राष्ट्रप्रेम

ठाकरे ने ‘हिंदुत्व’ को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘आज हमारी व आरएसएस की रैली होती है। आरएसएस की रैली में हिंदुत्व की बात हुई। मैं मोहन जी (मोहन भागवत) को कहता हूं कि माफ कीजिए, आज मैं आप पर टीका नहीं कर रहा। हिंदुत्व का मतलब राष्ट्र प्रेम है। बालासाहेब ने कहा था कि पहले हम देशवासी हैं, उसके बाद धर्म आता है। धर्म घर पर रख हम जब बाहर निकलते हैं, तब देश हमारा धर्म होता है। हमारे रास्ते अलग हो सकते हैं लेकिन विचारधारा हिंदुत्व की एक जैसी है। इसीलिए हम भाजपा के साथ गए थे, लेकिन उन्होंने वादा पूरा नहीं किया, अन्यथा हम साथ ही रहते। मैं इसलिए सीएम बना, क्योंकि मैंने मेरे पिता से वादा  किया था कि एक दिन शिवसैनिक भी सीएम बनेगा।’

उद्धव की चुनौती- हिम्मत हो तो सरकार को गिराकर दिखाओ

महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, ‘मोहन जी ने आज कहा कि जो लड़ाई है वो विचार से होना चाहिए, युद्ध नहीं। यह आपको उनको भी बतानी चाहिए, जो सत्ता में रहने के लिए कुछ भी कर रहे हैं। नशा की बात की गई, नशा पर कार्रवाई उठाई जानी चाहिए, लेकिन जो सत्ता का नशा कर रहे हैं, उनका क्या, कुछ भी कर सत्ता में रहना है। अगले महीने हमारी सरकार को दो साल हो जाएंगे, अब भी कहता हूं, हिम्मत हो तो इस सरकार को गिराकर दिखाओ?’

हमें ईडी, सीबीआई का डर नहीं

उन्होंने कहा कि शिवाजी महाराज व शिवसेना संस्थापक (बाला साहब ठाकरे) ने हमें यही सिखाया है कि हमें किसी से नहीं डरना चाहिए। हमें ईडी व सीबीआई का डर नहीं है। हम उन लोगों में से नहीं हैं जो धमकी देकर पुलिस के पीछे छिप जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *