Fearing rebellion, AAP blows poll bugle in Punjab | बगावत के डर से, आप ने पंजाब में चुनावी बिगुल फूंका



डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। आम आदमी आर्टी ने अगले साल पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए शंखनाद कर दिया है। आप ने चुनाव के लिए अपने 10 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है। विधानसभा चुनाव से पहले आप पार्टी के कुछ विधायक बगावत कर सकते हैं के डर से मौजूदा 10 विधायकों का टिकट तो कंफर्म कर दिया है। आप की राह इसलिए भी कठिन होती जा रही थी कि जब उसके विधायक लगातार पार्टी को छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन कर लगे। ऐसे में दलबदल की रोकथाम के लिए और पार्टी के अंदर उपजे असंतोष को देखते हुए प्रत्याशियों की सूची जारी करना जरूरी हो गया था। 

आप ने जिन प्रत्याशियों की सूची जारी की है उनके विधानसभा क्षेत्र में कोई भी फेरबदल नहीं किया है। इस सूची में कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष हरिपाल सिंह चीमा के साथ ही 10 मौजूदा विधायकों का टिकट काट दिया है। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में आप ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 20 सीटों पर कब्जा जमाया था। लेकिन हाल ही के दिनों में पार्टी को एक के बाद झटके लगने शुरू हो गये हैं। आप के 20 विधायकों में से 6 पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। इस सूची में विशेष यह भी है कि पार्टी ने मॉदा 4 विधायकों को टिकट नहीं दिया है। यदि दूसरी सूची में उनका भी नाम घोषित नहीं होता है तो शायद वह अगले विकल्प की तलाश कर लें।

आप ने इन लोगों को दिया टिकट

आप पार्टी की सूची के अनुसार जगरांव से विधायक सरबजीत कौर मानुके, दिबड़ा से विधायक हरपाल सिंह चीमा, निहाल सिंह वाला से विधायक मनजीत सिंह बिलासपुर, गढ़शंकर से विधायक जयकिशन रोड़ी, कोटकपूरा से विधायक कुलतार सिंह संधवां, बुढलाडा से विधायक प्रिंसिपल बुधराम, तलवंडी साबो से विधायक बलजिंदर कौर, सुनाम से विधायक अमन अरोड़ा, महिल कलां से विधायक कुलवंत पंडोरी और बरनाला से विधायक गुरमीत सिंह मीत हेयर को टिकट देकर एक बार फिर 2017 वाला इतिहास दोहराने की उम्मीद है। बता दें कि दो दिन पूर्व ही आप विधायक रूपिंदर कौर रूबी ने पार्टी छोड़कर पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और पार्टी के राज्य प्रमुख नवजोत सिंह सिद्ध की मौजूदगी में कांग्रेस ज्वाइंन कर ली थी।

सीएम चन्नी ने कौर का कांग्रेस ज्वाइन करने पर स्वागत करते हुए उनकी भूरि-भूरि प्रशंसा भी की थी साथ ही दावा किया था कि आने वाले दिनों में आप के और कार्यकर्ता कांग्रेस ज्वाइंन करेंगे। 2017 में पंजाब में भाजपा और अकालियों का गठबंधन था लेकिन किसान कानूनों के चलते यह गठबंधन खत्म हो चुका है। भाजपा की ओर से संकेत हैं कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी सभी 117 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी वहीं इस बार अकाली दल ने बासपा से गठबंधन किया है।

 

 

 





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllwNews